“सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया” नाम के झूठे पन्थ से सावधान रहिए!!

By: मार्ग सत्य जीवन Topic: झूठी शिक्षाएं/पन्थ (False Teaching /Cult) Series: अपॉलोजेटिक्स (Apologetics)

मसीह में प्रिय भाईयो और बहनो, एक बात हमेशा याद रखिए कि हर एक चमकने वाली चीज़ सोना नहीं होती। इसी प्रकार हर एक सही प्रतीत होने वाली शिक्षा खरी और बाइबल पर आधारित नहीं होती है, इसलिए बाइबल पर आधारित, सन्दर्भ में होकर परखने और समझने वाले बनिए। अन्यथा हम अपने विश्वास रूपी जहाज़ को इस झूठी शिक्षा के सागर में डुबो देंगे।

हर एक चमकने वाली चीज़ सोना नहीं होती। इसी प्रकार हर एक सही प्रतीत होने वाली शिक्षा खरी और बाइबल पर आधारित नहीं होती है, इसलिए बाइबल पर आधारित, सन्दर्भ में होकर परखने और समझने वाले बनिए।

आइए हम एक ऐसे झूठे पन्थ के बारे में जानें, जो “पूर्वी बिजली (ईस्टर्न लाईटिनिंग  या Eastern Lightning)” या “सर्वशक्तिमान की कलीसिया” के नाम से हमारे मध्य में चुपके से घुस आया है। इसके अनुयायी मसीही शब्दों को उपयोग करते हैं परन्तु वे मसीही नहीं हैं। यह दुख की बात है कि वे हमारे भारत देश में बहुत से लोगों को मसीही विश्वास व सच्चे सुसमाचार से भटका रहे हैं।

पूर्वी बिजली एक झूठा आन्दोलन व पन्थ है, जो कि अपने आप को एक मसीही होने का दावा करता है, परन्तु वह अपने सिद्धान्तों व मुख्य शिक्षा के आधार पर मसीही समूह नहीं है। इसका पालन करने वाले लोग अपने आप को “सर्वशक्तिमान की कलीसिया” भी कहते हैं।

यह आन्दोलन सन् 1991 में, चीन देश में आरम्भ हुआ, और आज यह पूरे विश्व में बहुत तेजी के साथ फैल गया है, और विशेष रूप से अपने भारत देश में इसका विस्तार हो रहा है। यह झूठा मत बाइबल के ही पदों का उपयोग करके लोगों को बहका रहा है और हमारे प्रभु यीशु मसीह और सच्चे सुसमाचार से लोगों का ध्यान भटका रहा है और लोगों के आत्मिक जीवन को बर्बाद कर रहा है। यह समूह (ग्रुप) फेसबुक व अन्य सोशियल मीडिया साइट पर बहुत अधिक सक्रिय है।

यह पन्थ झूठा क्यों है?

हर एक वह समूह जो बाइबल पर आधारित मूलभूत शिक्षाओं व सिद्धान्तों से हटकर विश्वास करता और शिक्षा देता है, वह मसीही समूह नहीं, बल्कि वह एक झूठा पन्थ (कल्ट) कहलाता है। “सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया” को मैं झूठा मत या पन्थ निम्न बड़े व मुख्य कारणों से कहता हूँ—

हर एक वह समूह जो बाइबल पर आधारित मूलभूत शिक्षाओं व सिद्धान्तों से हटकर विश्वास करता और शिक्षा देता है, वह मसीही समूह नहीं, बल्कि वह एक झूठा पन्थ (कल्ट) कहलाता है।

1. यह समूह बाइबल में प्रकट वचन के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। यह पन्थ बाइबल (परमेश्वर के जीवित वचन) को पर्याप्त व आधिकारिक नहीं मानता है, बल्कि उसके स्थान पर “वचन देह में प्रकट होता है” नामक पुस्तक का अनुसरण करता है। वे अपने विचार व प्रचार का समर्थन करने के लिए वे बाइबल के बहुत से पदों को गलत रीति से उपयोग करने के द्वारा परमेश्वर के प्रकाशन का अनदेखा करते हैं।

2. यह समूह बाइबल में प्रकट त्रिएकता के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। वे पुराने नियम के यहोवा परमेश्वर तथा, यीशु मसीह, और पवित्र आत्मा के बारे में बात तो करते हैं, लेकिन वे बाइबल से हटकर भी बात करते हैं। वे “सर्वशक्तिमान परमेश्वर” अर्थात् वचन जो देह में प्रकट हुआ था एक चीनी (चाइनीज़) स्त्री को मानते हैं कि वह “मसीहा है जो आने वाला था,” और उसकी शिक्षा देते हैं।

3. यह समूह बाइबल में प्रकट देहधारण के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। यह झूठ मत यह विश्वास नहीं करता है कि “यीशु मसीह एक बार सदा के लिए देहधारी हुआ” और इसीलिए उस चीनी महिला को मसीहा मानता है। मसीह के देहधारण के महत्व को घटाने के द्वारा “सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया” स्पष्ट रीति से ऐतिहासिक मसीहियत से अलग है।

4. यह समूह बाइबल में प्रकट प्रायश्चित्त के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। यह कल्ट या पन्थ यीशु मसीह के द्वारा किए गए प्रायश्चित के कार्य को पूर्ण नहीं मानता है। वे मानते हैं कि वह चीनी महिला लोगों को शुद्ध करेगी, और ऐसे करने के द्वारा मसीह की क्रूस पर पर्याप्त मृत्यु का अपमान करते हैं।

5. यह समूह बाइबल में प्रकट मसीह के द्वितीय आगमन के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। “वचन देह में प्रकट होता है” नामक सिद्धान्त व पुस्तक के आधार पर वे लोग यह कहते हैं कि “यीशु मसीह पृथ्वी पर वापस आ चुके हैं, वर्तमान में वह एक चीनी महिला के रूप में हैं।” ध्यान देने वाली बात यह है कि परमेश्वर के पुत्र का प्रकट होना या आगमन एक स्त्री के रूप में नहीं हो सकता है।

6. यह समूह बाइबल में प्रकट मसीह के सिद्धान्त पर विश्वास नहीं करता है। वे यीशु मसीह को प्रभु और न्यायी करके नहीं मानते हैं, लेकिन यह मानते हैं कि हमारे मध्य में “सर्वशक्तिमान परमेश्वर” चीनी महिला के रूप में देह में प्रकट होकर आ गई है, जो सबका न्याय करेगी। वे यीशु मसीह के बलिदान का इन्कार नहीं करते हैं परन्तु उसके आगमन के सन्दर्भ में व अन्त के दिनों के बारे में सत्यों को विकृत करके प्रस्तुत करते हैं।

इस झूठे पन्थ का कार्य करने का तरीका

सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया” नामक झूठे पन्थ के अनुयायी या समर्थक अक्सर एक नई खोज के बारे में बात करते हैं। वे यह दावा करते हैं कि “मनुष्य के पुत्र का आना” हो चुका है, और कि परमेश्वर देह व माँस में आ चुका है। वह हमारे मध्य में चुपचाप आ चुका है। इन सब बातों को करने के द्वारा वे दावा करते हैं कि मनुष्य के पुत्र के पुन: आगमन की भविष्यवाणी पूर्ण हो चुकी है। ये लोग वर्तमान में कोई महत्वपूर्ण घटना या आपदा को लेकर मसीही लोगों के साथ भावनात्मक खेल खेलते हैं और यह कहते हैं कि आजकल दुनिया भर में बार-बार आपदाएं आ रही हैं। प्रभु यीशु की वापसी की भविष्यवाणियां पूर्ण हो चुकी हैं।

वे कहते हैं कि प्रभु या “सर्वशक्तिमान परमेश्वर” पहले ही वापस आ चुका है जिसे आप नहीं जानते हैं। वह रहस्य के प्रकटन के बारे में बात करते हैं और पवित्रशास्त्र का उपयोग करके मसीही लोगों को बहकाने व फुसलाने का कार्य करते हैं। इन सब बातों को करने के लिए वे 24 घण्टे सातों दिन फेसबुक और वाट्सऐप पर सक्रिय रहते हैं।

वे लोग मसीही लोगों में भावनात्मक रूप से विश्वास व पश्चाताप के बारे में संदेह को उत्पन्न करके यह सिखाते हैं कि – क्या अच्छा व्यवहार सच्चे पश्चाताप को दर्शाता है? सच्चा पश्चाताप क्या है? प्रभु में, अपनी आस्था में हम सच्चा पश्चाताप क्यों नहीं कर पाए? सच्चा पश्चाताप कैसे करें? ऐसे विषयों के बारे में बातचीत करके वे लोगों को धीरे-धीरे अपने समूह से जोड़ते हैं। वे अपने साथ जोड़ने का काम (चैट करने के द्वारा) वाट्सऐप संदेशों या सोशल मीडिया पर संदेश भेजने के द्वारा करते हैं।

वे लोग अन्त के दिन के बारे में बाइबल के सन्दर्भ में नहीं, परन्तु सन्दर्भ से बाहर बातों को निकाल कर बात करते हैं। उनके बातचीत, वीडियो, वेबसाइट, चैनल आदि दिखने और सुनने में मसीही लगते हैं परन्तु वास्तविकता यह है कि वे ऐसे भेड़िए है जो भेड़ों के वेश में, भेड़ों के मध्य चुपके से घुस आए हैं और भेड़ों को फाड़ खा रहे हैं – सही प्रतीत होने वाली झूठी शिक्षा के द्वारा वे लोगों को विश्वास से भटका रहे हैं। वे मसीहियों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। वे यीशु मसीह जो परमेश्वर का पुत्र है, उससे ध्यान व विश्वास हटाकर एक चीनी महिला  के ऊपर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं।

इस झूठे समूह की सोशल मीडिया पर पहचान :

1. यह समूह “सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया” और “सर्वशक्तिमान परमेश्वर” जैसे शब्दों का उपयोग करता है।

2.   यह समूह “यहवचन देह में प्रकट होता है” नामक ग्रन्थ को पढ़ते और पालन करता है।

3. “सर्वशक्तिमान की कलीसिया” के मत की पुष्टि, प्रचार, व बचाव के लिए वे बाइबल को सन्दर्भ से बाहर उपयोग करते हैं।

4. हिन्दी भाषा में चाइना/चीन के स्त्री और पुरुषों के द्वारा शिक्षा का दिया जाना, हिन्दी में अनुवादित छोटे-छोटे वीडियो के द्वारा प्रचार-प्रसार।

5.   आकर्षित करने वाले चमकीले – HD quality के फोटो, वीडियो व पोस्टर शेयर करना।

6.   अन्त के दिन के बारे में बातचीत करना।

7.   “भेड़े अपने चरवाहे की आवाज़ को पहचानती हैं” इस पद या वाक्य का उपयोग करना।

8.   चीनी लड़कियों व पुरूषों की सुन्दर फेसबुक प्रोफाइल फोटो व वीडियो, गीत।

9.   ये चीनी लोग गूगल अनुवाद (Google Translate) की सहायता से हिन्दी में बात करते हैं।

इस झूठे मत व इसके लोगों से बचने के कुछ व्यवहारिक सुझाव:

1. ऐसे लोगों को अपने फेसबुक अकाउण्ट से हटा (unfriend) दें और निरस्त (Block) कर दें।

2.    यूट्यूब (Youtube) पर इनके चैनल को न देखें। यदि आप देख रहे हैं तो सावधान हो जाइए, क्योंकि ये भावनात्मक रूप से आपको प्रभावित करने का प्रयास करेंगे।

3.   इनके सोशियल मीडिया समूह में न जुड़ें।

4.   अपनी स्थानीय कलीसिया से जुड़े रहें।

5.   परमेश्वर के वचन को सन्दर्भ में पढ़ें और समझें।

6.   यदि आपके पास वचन का सही व पूर्ण ज्ञान नहीं है, तो इस समूह से सम्पर्क न करें।

7.   यदि ऐसे समूह से आपकी बातचीत होती है, तो अपने अगुवों को अवश्य ही बताएं।

8.  स्वयं बचें और अपने परिवार और मित्रों को अवश्य ही इससे अवगत करवाएं।

हमारे लिए आवश्यक है कि हम सावधानी के साथ प्रत्येक शिक्षा को सही सन्दर्भ में होकर परमेश्वर के वचन के प्रकाश में परखें।

हमारे लिए आवश्यक है कि हम सावधानी के साथ प्रत्येक शिक्षा को सही सन्दर्भ में होकर परमेश्वर के वचन के प्रकाश में परखें। बाइबल हमें बताती है कि अन्त के दिनों में झूठे शिक्षक और झूठे मसीहा उठ खड़े होंगे और लोगों को उनके विश्वास से भटकाएंगे। – मत्ती 7:15 – “झूठे नबियों से सावधान रहो, जो भेड़ों के वेश में तुम्हारे पास आते हैं, परन्तु भीतर से वे भूखे-फाड़ खाने वाले भेड़िए हैं।” और मत्ती 24:5 में पहले से ही स्पष्ट कर दिया गया था – “… बहुत लोग मेरे नाम से यह कहते आएंगे, ‘मैं मसीह हूँ’ और बहुतों को धोखा देंगे।” परमेश्वर हमें ऐसी झूठी शिक्षाओं से बचाए, और हमारी सहायता करे कि हम बाइबल में पाई जाने वाली आधारभूत शिक्षाओं को थामे रहें।

मार्ग सत्य जीवन सत्य वचन चर्च की सेवकाई है, जो हिन्दी कलीसिया के अगुवों तथा विश्वासियों की आत्मिक उन्नति तथा बाइबल के ज्ञान की बढ़ोतरी के लिए मुफ्त में संसाधन उपलब्ध कराती है।

Share