क्रिसमस स्वतंत्रता के लिए है

क्रिसमस स्वतंत्रता के लिए है

ख्रीष्ट आगमन | उन्नीसवाँ दिन
अतः जिस प्रकार बच्चे मांस और लहू में सहभागी हैं, तो वह आप भी उसी प्रकार उनमें सहभागी हो गया, कि मृत्यु के द्वारा उसको जिसे मृत्यु पर शक्ति मिली है, अर्थात शैतान को, शक्तिहीन कर दे, और उन्हें छुड़ा ले जो मृत्यु के भय से जीवन भर दासत्व में पड़े थे। (इब्रानियों 2:14–15)

यीशु मनुष्य बन गया क्योंकि आवश्यकता थी ऐसे मनुष्य की मृत्यु की जो मनुष्य से अधिक था। देहधारण परमेश्वर द्वारा स्वयं को मृत्यु दण्ड के लिए नियुक्त करना था।

ख्रीष्ट ने मृत्यु का संकट ही नहीं उठाया। उसने मृत्यु को चुना। उसने उसे गले लगा लिया। ठीक यही कारण है कि वह आया: “सेवा कराने नहीं, वरन सेवा करने और बहुतों की फिरौती के मूल्य में अपना प्राण देने” (मरकुस 10:45)।

कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि शैतान ने यीशु को क्रूस से विमुख करने का प्रयास किया—जंगल में (मत्ती 4:1–11) और पतरस के द्वारा (मत्ती 16:21–23)! क्रूस शैतान का विनाश था। यीशु ने उसे कैसे नाश किया?

इब्रानियों 2:14 कहता है कि शैतान के पास “मृत्यु पर शक्ति” है। इसका अर्थ है कि शैतान में मृत्यु को भयावह बनाने की क्षमता है। “मृत्यु पर शक्ति” वह शक्ति है जो मृत्यु के भय से मनुष्यों को बन्धन में रखती है। यह मनुष्यों को पाप में रखने की शक्ति है ताकि मृत्यु एक भयानक वास्तविकता के रूप में सामने आए।

परन्तु यीशु ने शैतान से इस शक्ति को छीन लिया। उसने उसको शस्त्रहीन कर दिया। उसने हमारे लिए धार्मिकता का एक कवच बनाया जो शैतान के दोषारोपण से हमारी प्रतिरक्षा करता है। उसने यह कैसे किया?

अपनी मृत्यु के द्वारा, यीशु ने हमारे सभी पापों को मिटा दिया। और पाप रहित मनुष्य पर शैतान दोष नहीं लगा सकता है। क्षमा प्राप्त करके, हम अन्ततः अविनाशी हैं। शैतान की योजना थी कि वह परमेश्वर के शासन को नष्ट करेगा परमेश्वर के अनुयायियों पर परमेश्वर के स्वयं के न्यायालय में दोष लगाने के द्वारा। परन्तु अब, ख्रीष्ट में, हम पर कोई दण्ड की आज्ञा नहीं है। शैतान का राजद्रोह निरस्त कर दिया गया है। संसार में व्याप्त उसके विश्वासघात को विफल कर दिया गया है। “उसके क्रोध को हम सह सकते हैं, क्योंकि, उसका सर्वनाश निश्चित है।”7 क्रूस ने उसे पूर्णतया पराजित कर दिया है। और वह समय दूर नहीं जब वह अपनी अन्तिम सांस लेगा।

क्रिसमस स्वतन्त्रता के लिए है। मृत्यु के भय से स्वतन्त्रता।

यीशु ने बैतलहम में हमारा स्वभाव धारण किया, ताकि यरूशलेम में वह हमारी मृत्यु मर सके—यह सब इसलिए कि अपने शहरों में हम आज निडर हो कर रह सकें । हाँ, निडर। क्योंकि यदि मेरे आनन्द के विरोध में सबसे बड़ा संकट समाप्त हो चुका है, तो मैं छोटे संकटों से क्यों विचलित होऊँ? तो फिर आप कैसे कह सकते हैं (वास्तव में!), “मैं मरने से नहीं डरता, परन्तु मैं अपनी नौकरी खोने से डरता हूँ”? नहीं। नहीं। विचार कीजिये!

यदि मृत्यु (मैंने कहा, मृत्यु!—शिथिल पड़ी हुई, ठंडी देह, जिसके प्राण जा चुके हैं!) यदि मृत्यु अब किसी भय का कारण नहीं है, तो हम स्वतन्त्र हैं, वास्तव में स्वतन्त्र हैं। ख्रीष्ट के लिए और प्रेम के लिए सूर्य के नीचे कोई भी संकट उठाने के लिए स्वतन्त्र हैं। अब और अधि क चिन्ता के दास नहीं।

यदि पुत्र ने आपको स्वतन्त्र कर दिया है, तो आप स्वतन्त्र होंगे, वास्तव में!


7 मार्टिन लूथर, “हमारा परमेश्वर एक दृढ़ गढ़ है,” 1527–1529.

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Twelve Traits Front Cover