परमेश्वर हमारे पापों को क्षमा करता है, इसलिए अपने पाप को मान लें।

Psalm 32:1-11