कभी न समाप्त होने वाला मधुमास (हनीमून)

जैसे दूल्हा अपनी दुल्हन के कारण हर्षित होता है, वैसे ही तेरा परमेश्वर तेरे कारण हर्षित होगा। (यशायाह 62:5)

जब परमेश्वर अपने लोगों के प्रति भला करता है तो वह एक संकोच करने वाले न्यायाधीश के जैसा नहीं होता है जो एक ऐसे अपराधी पर दया दिखाता है जो उसकी दृष्टि में घृणित है। वह एक दूल्हे के जैसा है जो अपनी दुल्हन को स्नेह दिखाता है।

कभी-कभी हम उपहास करते हुए विवाह के विषय में कहते हैं, “मधुमास समाप्त हो गया है।” परन्तु वह इसलिए होता है क्योंकि हम सीमित हैं। हम मधुमास के जैसी तीव्रता और स्नेह को नहीं बनाए रख सकते हैं। परन्तु परमेश्वर कहता है कि उसके लोगों के लिए उसका हर्ष दुल्हन के लिए दूल्हे के आनन्द के जैसा है। और उसका अर्थ यह नहीं है कि यह आरम्भ तो वैसे होता है और फिर शिथिल पड़ जाता है।

वह मधुमास की तीव्रता और मधुमास के आनन्द और मधुमास की ऊर्जा और उत्तेजना और उत्साह और उल्लास की बात कर रहा है। वह हमारे हृदयों में इस बात को समझाना चाहता है कि उसका क्या तात्पर्य है जब वह कहता है कि वह अपने पूरे हृदय से हमारे लिए हर्षित होता है। यिर्मयाह 32:41, “मैं आनन्दपूर्वक उनकी भलाई करूँगा, और अपने सम्पूर्ण मन और सम्पूर्ण प्राण से सचमुच उन्हें इस देश में स्थापित करूँगा।” सपन्याह 3:17, “यहोवा तेरा परमेश्वर तेरे मध्य है, वह बचानेवाला पराक्रमी योद्धा है। वह तेरे कारण हर्षित होगा, वह अपने प्रेम के कारण चुप रहेगा, वह हर्ष से जयजयकार करता हुआ तेरे कारण आनन्दित होगा।”

परमेश्वर के साथ मधुमास कभी समाप्त नहीं होता है। वह सामर्थ्य और बुद्धि और रचनात्मकता में असीम है जिससे कि आने वाली सहस्राब्दियों के खरबों युगों के लिए कोई नीरसता नहीं होगी।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352
Album Cover
: / :