Profit Gain AI Profit Method AI

आप अन्त में हार नहीं सकते हैं

“तुम्हारे पास पहरेदार हैं; जाओ, जैसे भी उसे सुरक्षित रख सको, वैसा ही करो” (मत्ती 27:65)

जब यीशु की मृत्यु हुई और उसको गाड़ा गया और उसके कब्र पर एक बड़ा पत्थर लुढ़काया गया, तब फ़रीसी पिलातुस के पास आए और उन्होंने पत्थर को मुहरबन्द करने और कब्र की सुरक्षा के लिए अनुमति माँगी।

उन्होंने व्यर्थ में अपनी ओर से उत्तम प्रयास किया था।

यह तब निष्फल था, यह आज भी निष्फल है, और यह सदैव निष्फल रहेगा। लोग भले ही जितना प्रयास कर लें, वे यीशु को दबाकर नीचे नहीं रख सकते हैं। वे उसे गाड़कर नहीं रख सकते हैं।

यह बात समझना कठिन नहीं है कि: वह इसे तोड़कर बाहर आ सकता है क्योंकि उसे बलपूर्वक अन्दर नहीं भेजा गया था। उसने यह सब होने दिया कि झूठ के सहारे उस पर दोष लगाया जाए, तथा उसको पीड़ित किया जाए, तिरस्कृत किया जाए तथा उससे घृणा की जाए तथा इधर-उधर धक्का देकर गिराया जाए और मार डाला जाए।  

मैं अपना प्राण देता हूँ कि उसे फिर ले लूँ। कोई उसे मुझे से नहीं छीनता, परन्तु मैं उसे अपने आप ही देता हूँ। मुझे उसे देने का अधिकार है, और फिर ले लेने का भी अधिकार है। यह आज्ञा मैंने अपने पिता से पाई है। (यूहन्ना 10:17-18)

कोई उसे दबाकर नीचे नहीं रख सकता है क्योंकि किसी ने उसे मारकर नीचे नहीं गिराया था। जब उपयुक्त समय आया तो उसने विश्राम किया। 

जब ऐसा प्रतीत होता है कि उसे सदा के लिए गाड़ा गया है, तो यीशु अन्धेरे में कुछ अद्भुत कर रहा होता है। “परमेश्वर का राज्य ऐसा है जैसे कोई मनुष्य भूमि पर बीज डाले, और रात को सो जाए और दिन को जाग जाए और वह बीज अंकुरित होकर बढ़े; वह व्यक्ति स्वयं नहीं जानता कि यह कैसे होता है” (मरकुस 4:26-27)।

संसार सोचता है कि यीशु का कार्य समाप्त हो गया है — वह मार्ग से हटा दिया गया है — परन्तु यीशु अन्धकारपूर्ण स्थानों में कार्यरत होता है। “जब तक गेहूँ का दाना भूमि में पड़कर मर नहीं जाता, वह अकेला रहता है; परन्तु यदि मर जाता है, तो बहुत फल लाता है” (यूहन्ना 12:24)। उसने स्वयं को गाड़े जाने दिया — “कोई मुझसे [मेरा जीवन] नहीं लेता” — और वह सामर्थ्य में बाहर आ जाएगा जब वह चाहे और जहाँ वह चाहे — “मुझे इसे पुन: ले लेने का अधिकार है।”

“परमेश्वर ने मृत्यु की पीड़ा को मिटाकर उसे पुन: जीवित कर दिया, क्योंकि मृत्यु के वश में रहना उसके लिए असम्भव था” (प्रेरितों के काम 2:24)। यीशु के पास आज “अविनाशी जीवन की सामर्थ्य से” याजक का कार्यभार है (इब्रानियों 7:16)।

बीस शताब्दियों से, संसार ने  व्यर्थ में अपनी ओर से उत्तम प्रयास किया है। वे उसे नहीं गाड़ सकते हैं। वे उसे अन्दर नहीं रख सकते हैं। वे उसे चुप नहीं कर सकते हैं या उसे सीमित नहीं कर सकते हैं। यीशु जीवित है और वह पूरी रीति से स्वतन्त्र है कि वह जहाँ चाहे वहाँ जा सकता है और आ सकता है।

उस पर भरोसा करें और उसके साथ चलें, भले कुछ भी हो जाए। आप अन्त में हार नहीं सकते हैं।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 364
Album Cover
: / :

Special Offer!

ESV Concise Study Bible

Get the ESV Concise Study Bible for a contribution of only 500 rupees!

Get your Bible