दुख उठाना मसीहियों के लिए उत्साह की बात है।

मरकुस 10:35-45