कलीसियाई आराधना में उचित व्यवहार।

1तीमुथियुस 2:8-15