परमेश्वर अपने वचनों और कर्मों में महान है, इसलिए उस पर भरोसा करें और उसकी स्तुति करें।

भजन संहिता 33:1-22