यीशु मसीह अपने मृत्यु के द्वारा नये आत्मिक सम्बन्ध को स्थापित करते है।

यूहन्ना 19:25-27