कलीसियाई अनुशासन को समझना (Understanding Church Discipline)

जोनाथन लीमन

0.00100.00

एक समय कलीसियाई अनुशासन कलीसिया के जीवन का अभिन्न भाग था, किन्तु धीरे-धीरे कलीसियाओं ने बीसवीं शताब्दी में इसका अभ्यास करना बन्द कर दिया। परन्तु यीशु इसकी आज्ञा देता है। पौलुस ने इसका अभ्यास किया। और कलीसिया इससे लभान्वित हुई है। कलीसियाई अनुशासन का अभ्यास क्यों करें? यह पाप में फँसे व्यक्ति के लिए प्रेंम, सम्पूर्ण कलीसिया के लिए प्रेम, अविश्वासी पड़ोसियों को लिए प्रेम और ख्रीष्ट की महिमा के लिए प्रेम को दर्शाता है।

समान श्रृंखला की पुस्तकें:

  1. पुस्तक : [प्रभु-भोज को समझना]
  2. पुस्तक : [बपतिस्मा को समझना।]
  3. पुस्तक : [मण्डलीय अधिकार को समझना।]
  4. पुस्तक : [कलीसियाई अगुवाई को समझना।]
  5. पुस्तक : [महान् आदेश को समझना]
भार 0.56 kg
आयाम: 17.8 × 12.8 × 0.5 cm
प्रारूप (Format)

,

प्रकाशक (Publisher)

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “कलीसियाई अनुशासन को समझना (Understanding Church Discipline)”

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *