एक प्रचारक का जीवन और सिद्धान्त

1 तीमुथियुस 4:12-16