नम्रता क्या है?

नम्रता क्या है?

“धन्य हैं वे जो नम्र हैं, क्योंकि वे पृथ्वी के उत्तराधिकारी होंगे।” (मत्ती 5:5)

नम्रता आरम्भ होती है जब हम परमेश्वर पर भरोसा रखते हैं। इसके बाद, क्योंकि हम उस पर भरोसा रखते हैं, इसलिए हम अपने मार्ग को उसे सौंप देते हैं। हम अपनी चिन्ताओं, अपनी कुंठाओं, अपनी योजनाओं, अपने सम्बन्धों, अपनी आजीविका, और अपने स्वास्थ्य को उस पर डाल देते हैं। 

और फिर हम धैर्यपूर्वक परमेश्वर की प्रतीक्षा करते हैं। हम उसके समय-निर्धारण और उसकी सामर्थ्य तथा उसके अनुग्रह पर भरोसा रखते हैं कि वह सर्वोत्तम रीति से सब कुछ को कार्यान्वित करेगा उसकी महिमा और हमारी भलाई के लिए। 

परमेश्वर पर भरोसा रखने, और अपनी चिन्ताओं को परमेश्वर पर डालने, तथा धैर्यपूर्वक उसके लिए प्रतीक्षा करने का परिणाम यह है कि हम शीघ्रता से आने वाले और चिड़चिड़े क्रोध को अवसर नहीं देते हैं। परन्तु इसके विपरीत, हम प्रकोप को अवसर देते हैं और अपने पक्ष को परमेश्वर को सौंपते हैं और उसे अनुमति देते हैं कि यदि वह निर्णय ले तो हमको निर्दोष ठहराए।

और फिर, जैसे याकूब कहता है, इस शान्त भरोसे में हम बोलने में धीरजवन्त, और सुनने के लिए तत्पर होते हैं (याकूब 1:19)। हम बुद्धि-सम्पन्न बनते हैं और सुधार के लिए तैयार रहते हैं (याकूब 3:17)। याकूब इसे “ज्ञान की नम्रता” कहता है (याकूब 3:13)। 

नम्रता को ज्ञान प्राप्त करना प्रिय है। और यह एक मित्र के सुधारात्मक प्रहारों को अनमोल जानकर स्वीकार करता है (नीतिवचन 27:6)। और जब इसे पाप या त्रुटि में पकड़े गए व्यक्ति के लिए आलोचनात्मक शब्द कहना होता है, तो यह अपनी स्वयं की दोषक्षमता और अपनी स्वयं की पाप से प्रभावित होने की अतिसंभावना और परमेश्वर के अनुग्रह पर पूर्ण निर्भरता को ध्यान में रख कर बोलता है (गलातियों 6:1)। 

नम्रता की निस्तब्धता और ग्रहणशीलता तथा अरक्षितता बहुत ही सुन्दर और अति पीड़ादायक है। यह उन सब बातों के विपरीत है जो कि हम अपने पापी स्वभाव के कारण हैं। इसको तो अलौकिक सहायता की आवश्यकता है। 

यदि आप यीशु ख्रीष्ट के चेले हैं — यदि आप उस पर भरोसा रखते हैं और अपने मार्ग को उसे सौंपते हैं और धैर्य पूर्वक उसकी प्रतीक्षा करते हैं — तो परमेश्वर ने पहले से ही आपकी सहायता करना आरम्भ कर दिया है और वह आपकी और भी अधिक सहायता करेगा। 

और जिस प्राथमिक रीति से वह आपकी सहायता करेगा वह यह है कि वह आपके हृदय को इस बात के लिए आश्वस्त करेगा कि आप यीशु ख्रीष्ट के साथ सह-उत्तराधिकारी हैं और यह कि संसार और जो कुछ भी इसमें है वह आपका है (1 कुरिन्थियों 3:21-23)। नम्र लोग पृथ्वी के उत्तराधिकारी होंगे। 

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email