बपतिस्मा क्या है?

कलीसिया में वचन के आधार पर केवल दो विधियाँ दी गई हैं- बपतिस्मा और प्रभु भोज। बपतिस्मा ऐसा कार्य है जिसे व्यक्ति एक बार करता है और प्रभु भोज नियमित रीति से कलीसिया में की जाती है। इस लेख में हम बपतिस्मा के विषय में विचार करेंगे और वचन के आधार पर बपतिस्मा को समझने का प्रयास करेंगे। 

बपतिस्मा पानी में डुबोया जाना है। बपतिस्मा यूनानी शब्द ‘बैप्टिज़ो – Baptizo’ से आया है, जिसका अर्थ- “डुबोना, डुबकी लगाना या डुबो देना” है। इसका स्पष्ट अर्थ है कि पानी का छिड़काव, वास्तव में बपतिस्मा नहीं है। बाइबल बताती है कि यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला पानी में, पानी के अन्दर बपतिस्मा देता था। इसलिए यीशु बपतिस्में के बाद पानी से बाहर आते हैं (मत्ती 3:16)। प्रारम्भिक अगुवों ने पानी में डुबोने के द्वारा बपतिस्मा दिया जैसे – फिलिप्पुस एवं खोजा की कहानी में वे दोनों जल में उतरे और जल में से बाहर आए (प्रेरित 8:38-39)। इसलिए बपतिस्मा पर्याप्त जल में होना चाहिए, जिसमें व्यक्ति पानी के अन्दर पूरा डूबोया जाए और उसे बाहर निकाला जाए।  

बपतिस्मा हृदय परिवर्तन का बाहरी प्रकटी करण है। बपतिस्मा में व्यक्ति को पानी में डुबोया जाता है और निकाला जाता है, जो हृदय परिवर्तन का बाहरी प्रकटीकरण है। हम आरम्भिक कलीसिया पर ध्यान दें, तो जब प्रेरित पतरस ने पवित्र आत्मा के उतरने के बाद पहली बार प्रचार किया तो जैसे ही ख्रीष्टियों ने विश्वास किया, उन्होंने बपतिस्मा लिया (प्रेरितों के काम 2:37-41)। बपतिस्मा हृदय परिवर्तन के बाद का कार्य है न कि बपतिस्में के द्वारा नया जन्म होता है। व्यक्ति विश्वास और कार्यों के द्वारा, जिसमें बपतिस्मा भी सम्मिलित है, परमेश्वर के सामने धर्मी नहीं ठहराया जाता है। यह बात बाइबल नहीं सिखाती। हृदय परिवर्तन पूर्णतया परमेश्वर का कार्य है। बपतिस्मा हृदय परिवर्तन के बाद विश्वासी का कार्य है। 

बपतिस्मा सार्वजनिक कार्य है। कई बार लोग यह सोच सकते हैं कि बपतिस्मा हम कहीं पर भी, अकेले में भी ले सकते हैं, तो ध्यान दें। बपतिस्मा ख्रीष्ट और उसकी कलीसिया के साथ हमारी प्रारम्भिक पहचान का एक सार्वजनिक प्रदर्शन है। किन्तु बपतिस्मा यह एक सार्वजनिक कार्य है। लोगों को पश्चाताप करने और ख्रीष्ट के नाम में बपतिस्मा लेने का निर्देश दिया गया था (प्रेरित 2:38)। इसके लिए बपतिस्मा देने वाला आवश्यक है। और यह कलीसिया के सम्मुख होता है। 

बपतिस्मा हमें ख्रीष्ट के साथ मिलन को दर्शाता है। बपतिस्मा यीशु के सुसमाचार का चित्रण है। बपतिस्मा हमारा उद्धार नहीं, वरन हमारे उद्धार का वर्णन है। रोमियों 6:3-4 पानी में जाना, यीशु की मृत्यु के साथ अपनी पहचान दिखाना है। जब हम पानी में जाते हैं तो हम यह प्रकट करते हैं कि हम यीशु के साथ मारे गए, गाड़े गए और उसके साथ जिलाए गए हैं। और यीशु के साथ हमारे मिलन होने से हम उसकी आशीष में सहभागी होते हैं। 

बपतिस्मा ख्रीष्ट की आज्ञा पालन करना है। हमें ख्रीष्ट के उदाहरण का अनुसरण करने के लिए बपतिस्मा लेना है। (मत्ती 3:13-17) बपतिस्मा पश्चाताप और पाप से फिरने का एक चित्रण है। ख्रीष्ट की आज्ञा पालन करने के लिए हमें बपतिस्मा लेना चाहिए। (मत्ती 28:19) (यीशु की सेवकाई बपतिस्मा से मत्ती 3, शुरू होती है और महान आदेश में बपतिस्मा देने की आज्ञा के साथ समाप्त होती है।) जब स्वयं प्रभु यीशु ने आज्ञा दिया है तो अवश्य ही प्रत्येक विश्वासी को उसकी आज्ञा माननी ही मानना है। 

बपतिस्मा विश्वासियों के साथ एकता में होने का प्रदर्शन है। कलीसिया में विश्वासियों को एक करने के लिए बपतिस्मा निर्धारित रीति है। हम ख्रीष्ट के साथ और कलीसिया के साथ भी एक किए गए हैं और पहचाने जाते हैं। जब पिन्तेकुस्त के दिन लोगों ने विश्वास किया तो बपतिस्मा लिया और स्वयं को कलीसिया के लिए समर्पित किया (प्रेरित 2:42-47)। बपतिस्मा संसार को दिखाता है कि अब हम ख्रीष्ट के समूह के हैं। हम बपतिस्मा के द्वारा प्रकट करते हैं कि हम ख्रीष्ट की देह के भाग हैं (इफिसियों 4:4-6)।

बपतिस्मा केवल विश्वासियों के लिए है। बपतिस्मा उन सभी के लिए नहीं है, जिनका जन्म हुआ है, परन्तु केवल उनके लिए है जिनका नया जन्म हुआ है (यूहन्ना 3:3-8; 1:13)। आरम्भिक कलीसिया में प्रेरितों की शिक्षा के अनुसार लोग जब यीशु पर विश्वास करते हैं तो वे बपतिस्मा लेते हैं (प्रेरित 2:38, 41, 8:12-13, 9:18; 10:47-48;16:15)। यदि कोई जिसने यीशु को अपने जीवन का उद्धारकर्ता नहीं माना है तो उसके लिए बपतिस्मा केवल पानी में जाना ही है।  

अत: बाइबल के अनुसार हम इस बात को समझते हैं कि बपतिस्मा एक ख्रीष्टीय के जीवन का महत्वपूर्ण भाग है। जिसके द्वारा हम हम उद्घोषणा करते हैं कि हम अब ख्रीष्ट के समूह के हैं। यह हमारे उद्धार का बाहरी प्रकटीकरण है। 

साझा करें
नीरज मैथ्यू
नीरज मैथ्यू

परमेश्वर के वचन का अध्ययन करते हैं और मार्ग सत्य जीवन के साथ सेवा करते हैं।

Articles: 212