यीशु के दो प्रकार के विरोध।
ख्रीष्ट आगमन | नवां दिन
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

जब राजा हेरोदेस ने यह सुना तो वह और उसके साथ सारा यरूशलेम घबरा गया। (मत्ती 2:3)

यीशु ऐसे लोगों के लिए व्याकुलता का कारण है जो उसकी आराधना नहीं करना चाहते हैं, और जो लोग उसकी आराधना करते हैं उनके लिए यीशु के कारण विरोध उठ खड़ा होता है। सम्भवतः मत्ती के मन में यह बात मुख्य नहीं है, परन्तु जैसे जैसे कहानी आगे बढ़ती है यह एक ऐसा आयाम है जिस से बचा भी नहीं जा सकता है।

इस कहानी में, दो प्रकार के लोग हैं जो यीशु की आराधना नहीं करना चाहते हैं।

पहले प्रकार के लोग वे हैं जो सामान्यतः यीशु के विषय में कुछ नहीं करते हैं। उनके जीवन में यीशु के महत्व का कोई अस्तित्व ही नहीं है। यीशु के जीवन के आरम्भिक दिनों में इस समूह का प्रतिनिधित्व मुख्ययाजकों और शास्त्रियों द्वारा किया गया था। मत्ती 2:4 कहता है, “तब उस [हेरोदेस] ने लोगों के सब मुख्य याजकों और शास्त्रियों को एकत्रित करके उनसे पूछा कि ख्रीष्ट का जन्म कहाँ होना चाहिए।” तो उन्होंने उसे बताया, और फिर मात्र इतना ही करके रुक गए: तत्पश्चात वे अपनी सामान्य दिनचर्या में लौट गए। जो हो रहा था उसके महत्व को देखते हुए अगुवों का शान्त रहना और उनकी निष्क्रियता अचरज में डाल देती है।

और ध्यान दें, मत्ती 2:3 कहता है, “जब राजा हेरोदेस ने यह सुना तो वह और उसके साथ सारा यरूशलेम घबरा गया।” दूसरे शब्दों में, यह बात चारों ओर फैल रही थी कि किसी को ऐसा प्रतीत हुआ है कि मसीहा जन्मा है। मुख्य याजकों की ओर से निष्क्रियता अति विचलित करने वाली है: वे मजूसियों के साथ क्यों नहीं गए? उन्हें कोई रुचि ही नहीं है। वे परमेश्वर के पुत्र को खोजने और उसकी आराधना करने के विषय में उत्सुक नहीं हैं।

दूसरे प्रकार के लोग जो यीशु की उपासना नहीं करना चाहते हैं, ये वे लोग हैं जो उससे अत्यन्त भयभीत हैं। इस कहानी में यह व्यक्ति हेरोदेस है। वह वास्तव में भयभीत है। इतना अधिक कि वह चाल चलता है और झूठ बोलता है और फिर केवल यीशु से छुटकारा पाने के लिए सामूहिक हत्या कराता है।

इसलिए आज भी, ये दो प्रकार के विरोध ख्रीष्ट और उसके आराधकों के विरुद्ध आएँगे: उदासीनता और शत्रुता। मैं निश्चित रूप से आशा करता हूँ कि आप इन समूहों में से किसी एक में भी नहीं हैं।

और यदि आप एक ख्रीष्टीय हैं, तो क्रिसमस के अवसर पर इस बात पर विचार करने में समय व्यतीत करें कि—इस मसीहा की आराधना करने और उसके पीछे चलने का अर्थ क्या है—इसका मूल्य क्या है।

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*