अपने हृदय के झरोखों को खोलें
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

कुचले हुए नरकट को वह न तोड़ेगा और न टिमटिमाती हुई बत्ती को बुझाएगा। (यशायाह 42:3)

पिछले कुछ सप्ताह में सम्भवतः सर्वाधिक उत्साहित करने वाले जो शब्द मैंने सुने हैं वे यशायाह 42:1-3 की भविष्यद्वाणी से आते हैं जो इस विषय में हैं कि कैसे यीशु अपनी आत्मिक सामर्थ्य का उपयोग करेगा।

क्या आपको कभी प्रतीत होता है कि आप एक “कुचले हुए नरकट” हैं — फूल के उन पौधों के समान जिनके तने को कुचल दिया गया है जिसके कारण फूल भूमि पर गिर जाते हैं और कोई पोषण नहीं पाते हैं? क्या आपको कभी प्रतीत होता है कि आपका विश्वास एक लौ के स्थान पर केवल एक छोटी सी चिंगारी की नाई है — जन्मदिन की मोमबत्ती बुझाने के बाद उस बत्ती के अन्तिम छोटे लाल बिंदु के समान?

साहस रखिए! ख्रीष्ट का आत्मा प्रोत्साहन का आत्मा है: वह आपके फूल को नहीं तोड़ेगा; वह आपकी चिंगारी को नहीं बुझाएगा।

“प्रभु का आत्मा मुझ पर है. . . . कंगालों को सुसमाचार सुनाने के लिए” (लूका 4:18)। “धार्मिकता का सूर्य उदय होगा,और उसकी किरणों से तुम चंगे हो जाओगे” (मलाकी 4:2)। “[वह] नम्र और मन में दीन है, और तुम अपने मन में विश्राम पाओगे” (मत्ती 11:29)। “यहोवा की प्रतीक्षा करता रह। हियाव बाँध और तेरा हृदय दृढ़ बना रहे। हाँ, यहोवा की प्रतीक्षा करता रह” (भजन 27:14)।

यह बात हमको दुखी कर सकती है कि हम धधकती आग के स्थान पर मात्र एक चिंगारी हैं। परन्तु सुनिए, और प्रोत्साहित होइए: हाँ, चिंगारी और आग में एक बड़ा अन्तर है। परन्तु चिंगारी होने और चिंगारी न होने में एक असीम अन्तर है! राई के दाने के समान विश्वास होना तो विश्वास न होने की तुलना में, पहाड़ के समान विश्वास होने के अत्याधिक निकट है।

परमेश्वर की प्रतिज्ञाओं के झरोखों को खोलिए और आत्मा को अपने हृदय के प्रत्येक भाग में आने दीजिए। परमेश्वर की पवित्र हवा न ही तोड़ेगी और न ही बुझेगी। वह आपके सिर को ऊँचा करेगा और आपकी चिंगारी को लौ में परिवर्तित कर देगा। वह प्रोत्साहन का आत्मा है।   

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*