समृद्धि का उद्देश्य
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

चोरी करने वाला फिर चोरी न करे, परन्तु भलाई करने वाला अपने हाथों से परिश्रम करे, जिससे कि आवश्यकता में पड़े हुए को देने के लिए उसके पास कुछ हो। (इफिसियों 4:28)

भौतिक वस्तुओं के साथ जीवन जीने के लिए तीन स्तर हैं: (1) आप उन्हें पाने के लिए चोरी कर सकते हैं; (2) या आप उन्हें पाने के लिए कार्य कर सकते हैं; (3) या आप दूसरों को देने के उद्देश्य से उन्हें पाने के लिए कार्य सकते हैं।

स्वयं को ख्रीष्टीय कहने वाले अधिकाँश लोग दूसरे स्तर के अनुसार जीवन जीते हैं। हम चोरी करने और लूटने के विरुद्ध कार्य की प्रशंसा करते हैं और यह अनुभूति करते हैं कि हमने नैतिकतापूर्ण व्यवहार किया है यदि हमने चोरी और लूट को ठुकरा दिया है और स्वयं को एक उचित वेतन के लिए पूरा दिन परिश्रम से कार्य करने के लिए दे दिया है। यह कोई बुरी बात नहीं है। कार्य करना तो चोरी करने तथा लूटने से उत्तम है। परन्तु यह वह बात नहीं है जिसके लिए प्रेरित हमें बुला रहे हैं। 

हमारे समाज की लगभग सभी शक्तियाँ हमसे दूसरे स्तर पर जीवन जीने के लिए आग्रह करती हैं: स्वयं के लिए प्राप्त करने के लिए कार्य करो। परन्तु बाइबल हमें निरन्तर तीसरे स्तर पर जीवन जीने के लिए प्रेरित करती है। “परमेश्वर सब प्रकार का अनुग्रह तुम्हें बहुतायत से दे सकता है, जिससे कि तुम सदैव, सब बातों में परिपूर्ण रहो, और हर भले कार्य के लिए तुम्हारे पास भरपूरी से हो” (2 कुरिन्थियों 9:8)। 

परमेश्वर हमें बहुतायत से क्यों आशीष देता है? जिससे कि हमारे पास जीने के लिए पर्याप्त हो, और शेष धन का उपयोग सभी प्रकार के भले कार्यों के लिए करें जो आत्मिक और शारीरिक कष्टों को दूर करते हैं — अस्थायी तथा अनन्त पीड़ा। हमारे लिए पर्याप्त हो; दूसरों के लिए बहुतायत से हो। 

मुख्य विषय यह नहीं है कि एक व्यक्ति कितना अर्जित करता है। विशाल उद्योग और मोटा वेतन हमारे समय की वास्तविकता है और ऐसा नहीं है कि वे अपने आप में बुरे हैं। बुराई इस सोच के द्वारा धोखा खाने में है कि एक अच्छा वेतन होने का अर्थ है हमारी जीवन शैली को भव्य होना चाहिए।

परमेश्वर ने हमें अपने अनुग्रह का माध्यम होने के लिए सृजा है। जोखिम इस बात को सोचने में है कि उस माध्यम को सोने से मढ़ा होना चाहिए। किन्तु ऐसा नहीं होना चाहिए। ताँबे से भी कार्य हो जाएगा। ताँबा भी दूसरों तक अविश्वनीय धन को पहुँचा सकता है। और देने की उस प्रकिया में हम सबसे उत्तम आशीष का आनन्द लेते हैं (प्रेरितों के काम 20:35)। 

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*