क्यों हमें अपनी आशा को दृढ़ता से थामे रहना चाहिए

क्यों हमें अपनी आशा को दृढ़ता से थामे रहना चाहिए

इसी प्रकार जब परमेश्वर ने प्रतिज्ञा के वारिसों पर अपने अटल उद्देश्य को और अधिक प्रकट करना चाहा तो उसने शपथ का उपयोग किया, कि हमें दो अटल बातों के द्वारा, जिनमें परमेश्वर का झूठ बोलना असम्भव है, दृढ़ प्रोत्साहन मिले —अर्थात हमें जो शरण पाने के लिए दौड़ पड़े हैं कि उस आशा को प्राप्त करें जो सामने रखी है। (इब्रानियों 6:17-18)

परमेश्वर में असंगतता नहीं पाई जाती है। वह प्रतिज्ञाओं, और शपथों, और अपने पुत्र के लहू के साथ स्वयं हमारी सुरक्षा के केवल एक छोर पर ही लंगर डालने का प्रयास नहीं करता है जबकि दूसरे छोर को हवा में लटकने के लिए छोड़ देता है।

जो उद्धार यीशु ने अपने लहू के द्वारा प्राप्त किया था वह लहू आवश्यकतानुसार पर्याप्त था उसके लोगों की मुक्ति हेतु, केवल उसका कुछ ही भाग नहीं।

इसलिए हम पूछने के लिए उन्मुख होते हैं, कि लेखक हमें  अपनी आशा को थामे रखने के लिए क्यों प्रोत्साहित करता है (इब्रानियों 6:18)? यदि हमारा थामे रहना यीशु के लहू से प्राप्त हुआ था और अपरिवर्तनीय रीति से सुरक्षित था — जो कि यह था (नई वाचा और पुरानी वाचा के बीच में यही अन्तर है) — तो फिर परमेश्वर हमें  थामे रखने के लिए क्यों कहता है?

इसका उत्तर यह है कि:

  • मृत्यु के द्वारा ख्रीष्ट ने हमारे लिए जो कुछ मोल लिया वह थामे रहने से मुक्ति नहीं थी, किन्तु थामे रहने के योग्य बनाने वाली शक्ति थी।
  • जो उसने मोल लिया वह हमारी इच्छाओं को निष्प्रभावी किया जाना नहीं था जैसे मानो कि हमें थामे रहने की आवश्यकता नहीं थी, परन्तु हमारी इच्छा का सशक्तिकरण था ताकि हम थामना चाहेंगे।
  • जो उसने मोल लिया वह थामे रहने की आज्ञा का निरस्तीकरण नहीं था, किन्तु थामे रहने की आज्ञा का पूर्ण किया जाना था।
  • जो उसने मोल लिया वह प्रोत्साहन का अन्त नहीं था, किन्तु प्रोत्साहन की विजय थी।

वह मर गया ताकि आप वही करें जो पौलुस ने फिलिप्पियों 3:12 में किया था, “मैं उस उद्देश्य की पूर्ति के लिए अग्रसर होता जाता हूं, जिसके लिए ख्रीष्ट (मसीह) यीशु ने मुझे पकड़ा था।” यह मूर्खता नहीं है, यह सुसमाचार है, एक पापी को वह करने के लिए कहना जिसको करने के योग्य उसे केवल ख्रीष्ट ही कर सकता है; अर्थात, परमेश्वर में आशा। 

अतः, मैं अपने सम्पूर्ण हृदय से आपको प्रोत्साहित करता हूं: हाथ बढ़ाओ और उस बात को थाम लो जिसके लिए ख्रीष्ट के द्वारा आपको थामा गया है, और इसे अपनी सम्पूर्ण सामर्थ्य से थाम लो — जिसके लिए वह तुम में सामर्थ्य से कार्य करता है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email