चिन्ता से कैसे लड़ें
जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

अपनी समस्त चिन्ता उसी पर डाल दो, क्योंकि वह तुम्हारी चिन्ता करता है। (1 पतरस 5:7)

भजन 56:3 कहता है, “जब मुझे डर लगेगा, मैं अपना भरोसा तुझ पर रखूँगा।”

ध्यान दीजिए: यहाँ यह नहीं कहा गया है, “मैं कभी डर से संघर्ष नहीं करूँगा।” डर प्रहार करता है, और युद्ध आरम्भ हो जाता है। इसलिए बाइबल यह मान कर नहीं चलती है कि सच्चे विश्वासी चिन्ता से संघर्ष नहीं करेंगे। इसके विपरीत, बाइबल हमें बताती है कि जब चिन्तायें हम पर प्रहार करती हैं तो उससे कैसे लड़ना चाहिए।

उदाहरण के लिए, 1 पतरस 5:7 कहता है, “अपनी समस्त चिन्ता उसी पर डाल दो, क्योंकि वह तुम्हारी चिन्ता करता है।” यह पद यह नहीं  कहता है कि तुम्हें कभी भी कोई चिन्ता नहीं होगी। परन्तु यह पद कहता है कि जब तुम चिन्तित होगे, तो अपनी समस्त चिन्ताएँ परमेश्वर पर डाल दो। जब आपकी कार के शीशे पर कीचड़ के छपाके लग जाते हैं और आपको कुछ समय के लिए सड़क पर कुछ दिखाई नहीं देता है और आप घबरा कर डगमगाने लगते हैं, तो उस समय आप शीशे के वायपर के साथ-साथ, पानी का फुहारा चलाइए।

इसलिए जो व्यक्ति प्रतिदिन चिन्ता की भावनाओं से संघर्ष करता है, उसके लिए मेरा प्रतिउत्तर यह है कि: यह तो जीवन का एक सामान्य भाग है। कम से कम मेरे लिए मेरी किशोरावस्था से तो ऐसा ही रहा है। तो मुख्य बात यह है कि: हम इनसे कैसे संघर्ष करें?

इस प्रश्न का उत्तर यह है: हम अविश्वास के विरुद्ध और भविष्य-के-अनुग्रह के लिए संघर्ष करने के द्वारा  चिन्ताओं से लड़ते हैं। और जिस रीति से आप इस अच्छी कुश्ती (1 तीमुथियुस 6:12, 2 तीमुथियुस 4:7) को लड़ते हैं वह है भविष्य में होने वाले अनुग्रह के सम्बन्ध में परमेश्वर के आश्वासनों पर मनन करने के द्वारा और उसके आत्मा की सहायता को माँगने के द्वारा। 

परमेश्वर की प्रतिज्ञाएँ कार के शीशे के वायपर के समान हैं जो अविश्वास के कीचड़ को साफ करती हैं, और पानी का फुहारा पवित्र आत्मा की सहायता है। पाप से छुटकारे का युद्ध — जिसमें चिन्ता का पाप भी सम्मिलित है — “उसके आत्मा  तथा सत्य पर विश्वास”  के द्वारा लड़ा जाता है (2 थिस्सलुनीकियों 2:13)।

आत्मा का कार्य और सत्य का वचन। ये विश्वास के उत्तम निर्माता हैं। आत्मा के द्वारा नरम बनाए जाने वाले कार्य के बिना, वचन के वायपर शीशे के ऊपर जमे सूखे कीचड़ पर केवल घूमते ही रहेंगे।

दोनों ही आवश्यक हैं: आत्मा तथा वचन। हम पमेश्वर की प्रतिज्ञाओं को पढ़ते हैं और हम आत्मा की सहायता के लिए प्रार्थना करते हैं। और जब शीशा साफ हो जाता है जिससे कि हम परमेश्वर की योजनाओं को अपने जीवन के लिए देख सकें (यिर्मायाह 29:11), तो हमारा विश्वास और अधिक दृढ़ हो जाता है और चिन्ता के कारण डगमगाना रुक जाता है।