चिन्ता न करने के 7 कारण, भाग 1

“इस कारण मैं तुमसे कहता हूँ कि अपने प्राण के लिए यह चिन्ता न करना कि हम क्या खाएँगे या क्या पीएँगे; और अपनी देह के लिए कि क्या पहिनेंगे। क्या प्राण भोजन से या देह वस्त्र से बढ़कर नहीं? आकाश के पक्षियों को देखो कि वे न तो बोते हैं, न काटते हैं और न ही खलिहानों में इकट्ठा करते हैं, फिर भी स्वर्ग में तुम्हारा पिता उनको खिलाता है। क्या तुम्हारा मूल्य उनसे बढ़कर नहीं?” (मत्ती 6:25-26)।

हम यीशु के पहाड़ी उपदेश के इस भाग में तीन दिन व्यतीत करने जा रहे हैं। मत्ती 6:25-34 में, यीशु विशेषकर भोजन और वस्त्र के सम्बन्ध में चिन्ता के विषय में बोल रहा है। परन्तु, वास्तव में, यह सब प्रकार की चिन्ता से सम्बन्ध रखता है।

अमरीका में भी, जिसमें एक व्यापक लोक-कल्याणकारी व्यवस्था है, धन और घर और भोजन और वस्त्रों के विषय में चिन्ता तीव्र हो सकती है। हम उन ख्रीष्टियों की बात भी नहीं कर रहे हैं जो ऐसी परिस्थितियों में रहते हैं जहाँ अत्यधिक निर्धनता जीवन को जोखिम में डालती है। परन्तु 30वें पद में यीशु कहता है कि हमारी चिन्ता भविष्य-के-अनुग्रह के लिए पिता की प्रतिज्ञा पर विश्वास की कमी से आती है: “हे अल्प-विश्वासियो।”

इन पदों (25-34) में कम से कम सात प्रतिज्ञाएँ है जो यीशु द्वारा इस उद्देश्य से कही गई हैं कि अविश्वास के विरुद्ध अच्छी कुश्ती लड़ने में हमें सहायता प्राप्त हो और हम चिन्ता से मुक्त हों। (आज हम प्रतिज्ञा 1 और 2 को देखेंगे — फिर अगले दो दिनों में हम शेष प्रतिज्ञाओं को देखेंगे।)

प्रतिज्ञा #1: “इस कारण मैं तुमसे कहता हूँ कि अपने प्राण के लिए यह चिन्ता न करना कि हम क्या खाएँगे या क्या पीएँगे; और अपनी देह के लिए कि क्या पहिनेंगे। क्या प्राण भोजन से या देह वस्त्र से बढ़कर नहीं?” (मत्ती 6:25)

क्योंकि आपकी देह और आपके प्राण का प्रावधान करना आपके लिए भोजन और वस्त्र के प्रावधान करने से कही बढ़कर जटिल और कठिन है, और फिर भी परमेश्वर ने आपको सृजा और आपके लिए देह और प्राण दोनों का प्रावधान कराया है, तो अवश्य ही वह आपको भोजन और वस्त्र का प्रावधान करने के लिए सक्षम और इच्छुक होगा।

और इस से बढ़कर, भले ही कुछ भी हो जाए, पर एक दिन परमेश्वर आपकी देह को उठाएगा और आपके प्राण और देह को अपने साथ अनन्त संगति के लिए बनाए रखेगा।

प्रतिज्ञा #2: “आकाश के पक्षियों को देखो कि वे न तो बोते हैं, न काटते हैं और न ही खलिहानों में इकट्ठा करते हैं, फिर भी स्वर्ग में तुम्हारा पिता उनको खिलाता है। क्या तुम्हारा मूल्य उनसे बढ़कर नहीं?” (मत्ती 6:26)

यदि परमेश्वर पक्षी जैसे इतने महत्वहीन प्राणियों को खिलाने के लिए इच्छुक और सक्षम है जो अपने भोजन के लिए कुछ भी योगदान नहीं कर सकते हैं — जैसे कि आप खेती करने के द्वारा कर सकते हैं — तो वह निश्चय ही आपकी आवश्यकताओं की पूर्ति करेगा क्योंकि आप पक्षियों से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं। पक्षियों से भिन्न, आपके पास क्षमता है कि आप भरोसा करने, आज्ञा मानने, और परमेश्वर को धन्यवाद देने के द्वारा परमेश्वर को महिमा दे सकते हैं।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 348
Album Cover
: / :