अनुभवात्मक कुंजी    

परमेश्वर सब प्रकार का अनुग्रह तुम्हें बहुतायत से दे सकता है, जिससे कि तुम सदैव, सब बातों में परिपूर्ण रहो, और हर भले कार्य के लिए तुम्हारे पास भरपूरी से हो। (2 कुरिन्थियों 9:8)

हम जानते हैं कि भविष्य में होने वाले परमेश्वर के अनुग्रह पर विश्वास ही उदारता की अनुभवात्मक कुंजी है, क्योंकि 2 कुरिन्थियों में पौलुस इस अद्भुत प्रतिज्ञा को थामे हुए है: “परमेश्वर सब प्रकार का अनुग्रह  तुम्हें बहुतायत से दे सकता है, जिससे कि तुम सदैव, सब बातों में परिपूर्ण रहो, और हर भले कार्य के लिए तुम्हारे पास भरपूरी से हो” (2 कुरिन्थियों 9:8)।

दूसरे शब्दों में, यदि आप अपने धन को जमा करने की आवश्यकता से मुक्त होना चाहते हैं, यदि आप प्रत्येक अच्छे कार्य हेतु बहुतायत से (अनुग्रह की!) उमड़ना चाहते हैं, तो भविष्य में अनुग्रह पर अपना विश्वास रखें। इस प्रतिज्ञा पर भरोसा करें कि भविष्य के प्रत्येक क्षण में इसी उद्धेश्य के लिए “परमेश्वर सब प्रकार का अनुग्रह आपको बहुतायत से दे सकता है”।

मैंने भविष्य में अनुग्रह पर विश्वास की उदारता को “अनुभवात्मक कुंजी” कहा है, जिससे कि यह अस्वीकार न किया जाए कि एक ऐतिहासिक कुंजी भी है। एक अनुभव की कुंजी है और एक इतिहास की कुंजी है।

जब वे उस अनुग्रह के विषय में चर्चा कर रहे थे जिसे उन्होंने प्राप्त किया है, तो पौलुस कुरिन्थियों को अनुग्रह की ऐतिहासिक कुंजी का स्मरण दिलाता है, “क्योंकि तुम हमारे प्रभु यीशु ख्रीष्ट के अनुग्रह को जानते हो, कि धनी होते हुए भी, वह तुम्हारे लिए निर्धन बन गया कि तुम उसकी निर्धनता के द्वारा धनी बन जाओ” (2 कुरिन्थियों 8:9)। 

अनुग्रह के इस ऐतिहासिक कार्य के बिना, ख्रीष्ट-को-ऊँचे-पर-उठाने-वाली उदारता का द्वार बन्द रहेगा। क्योंकि अतीत  का अनुग्रह प्रेम की अनिवार्य कुंजी है। 

परन्तु ध्यान दें कि इस पद में अतीत का अनुग्रह कैसे कार्य करता है। इसे भविष्य में होने वाले अनुग्रह (कि हम धनी बन जाएँ) की नींव (ख्रीष्ट निर्धन बन गया) पर बनाया गया है। इस प्रकार, हमारी उदारता की ऐतिहासिक कुंजी भविष्य में अनुग्रह पर विश्वास की अनुभवात्मक  कुंजी की नींव पर संचालित होती है। 

इस प्रकार, प्रेम और उदारता की अनुभवात्मक कुंजी यह है: भविष्य में होने वाले अनुग्रह पर दृढ़ता से भरोसा रखें — अर्थात यह कि, “परमेश्वर (भविष्य में) सब प्रकार का (भविष्य) अनुग्रह आपको बहुतायत से दे सकता है” —  जिससे कि आपकी आवश्यकता पूरी हो सके, और जिससे कि आप उदारता के प्रेम से ओतप्रोत हो सकें। 

लोभ से स्वतंत्रता परमेश्वर के द्वारा भविष्य में प्राप्त होने वाले अनुग्रह पर गहरे सन्तोषजनक विश्वास से आती है।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352
Album Cover
: / :