वह सिद्ध नगर

कोई प्रदूषण नहीं, दीवारों पर कोई चित्र नहीं, कोई कूड़ा नहीं, और न ही दीवारों पर ऐसा रंग है जिसकी परतें उखड़ रही हों, वहाँ कोई दुर्गन्धमय मोटरघर नहीं, न ही कोई सूखी घास और न ही टूटी हुई बोतलें, सड़क पर होने वाला कोई गाली-गलौज नहीं, आमने-सामने होने वाला कोई टकराव नहीं, और न ही कोई घरेलू हिंसा या संघर्ष, रात में किसी प्रकार का कोई संकट नहीं, न ही कोई आगजनी, न चोरी, न झूठ और न ही कोई हत्या, न कोई बर्बरता, और न ही कोई कुरूपता। 

परमेश्वर का नगर सिद्ध होगा, क्योंकि उस में परमेश्वर होगा। वह उसमें चलेगा और उसमें बातें करेगा और वह उस नगर के प्रत्येक क्षेत्र में स्वयं को प्रकट करेगा। वह सब कुछ वहाँ होगा जो अच्छा है और सुन्दर है और पवित्र है और शान्तिपूर्ण है तथा सच्चा और सुखद है, क्योंकि परमेश्वर वहाँ होगा। 

वहाँ सिद्ध न्याय होगा और इस संसार में ख्रीष्ट की आज्ञाकारिता हेतु सही गई प्रत्येक पीड़ा के लिए हज़ार गुना प्रतिफल मिलेगा। और यह नगर कभी नष्ट नहीं होगा। वास्तव में यह नगर तब और अधिक चमकेगा जब अनन्तकाल, शाश्वत युगों के वृद्धिशील आनन्द में बढ़ता रहेगा।  

जब आप इस नगर की अभिलाषा संसार की प्रत्येक वस्तु से बढ़कर करते हैं, तब आप परमेश्वर को महिमा देते हैं, जो इब्रानियों 11:10 के अनुसार इस नगर का रचने वाला और बनाने वाला है। और जब परमेश्वर को आदर मिलता है, तो वह प्रसन्न होता है और हमारा परमेश्वर कहलाने से वह लज्जित नहीं होता है। 

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352