जीवन परमेश्वर के वचन पर टिका हुआ है

परमेश्वर का वचन कोई साधारण वस्तु नहीं है; यह तो जीवन और मृत्यु से सम्बन्धित है। यदि आप पवित्रशास्त्र से ऐसा व्यवहार करेंगे कि मानो वह एक साधारण वस्तु है या उसके वचन व्यर्थ हैं, तो आप जीवन गँवा बैठेंगे।

यहाँ तक कि हमारा शारीरिक  जीवन भी परमेश्वर के वचन पर निर्भर करता है, क्योंकि उसके वचन के द्वारा ही हमारी सृष्टि हुई थी (भजन 33:6; इब्रानियों 11:3), और वह “अपने सामर्थ्य के वचन के द्वारा सब वस्तुओं को सम्भालता है” (इब्रानियों 1:3)।

और हमारा आत्मिक  जीवन परमेश्वर के वचन से आरम्भ होता है: “उसने अपनी ही इच्छा से सत्य के वचन के द्वारा हमें जन्म दिया” (याकूब 1:18)। “तुमने . . . परमेश्वर के जीवित तथा अटल वचन द्वारा, नया जन्म प्राप्त किया” (1 पतरस 1:23)।

न केवल हम परमेश्वर के वचन द्वारा जीना आरम्भ करते हैं, परन्तु हम परमेश्वर के वचन के द्वारा ही जीते भी रहते  हैं। “मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है, जीवित रहेगा” (मत्ती 4:4; व्यवस्थाविवरण 8:3)।

तो हमारे शारीरिक  जीवन की सृष्टि परमेश्वर के वचन के द्वारा होती है और वह परमेश्वर के वचन द्वारा सम्भाला जाता है, और हमारे आत्मिक  जीवन का आरम्भ भी परमेश्वर के वचन के द्वारा होता है और वह भी परमेश्वर के वचन के द्वारा बना रहता है। परमेश्वर के वचन द्वारा जीवन प्रदान करने वाली सामर्थ्य के विषय में साक्षी देने के लिए निश्चय ही हम अनेक कहानियों को एकत्रित कर सकते हैं!

वास्तव में, बाइबल “तुम्हारे लिए व्यर्थ वचन नहीं” — यह तो आपका जीवन है! सब आनन्द की नींव जीवन है। अस्तित्व से अधिक आधारभूत कुछ नहीं है—अर्थात् हमारी सृष्टि और हमारा संरक्षण। 

इन सब का श्रेय परमेश्वर के वचन की सामर्थ्य को जाता है। ठीक उसी सामर्थ्य से, उसने हमारे आत्मिक जीवन की सृष्टि करने के लिए और बनाए रखने के लिए बात की है। इसलिए, बाइबल कोई व्यर्थ वचन नहीं है, परन्तु आपका जीवन है — अर्थात् आपके आनन्द की नींव और उसको प्रज्जवलित करने का साधन।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352