विजय निश्चित है
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

इस कारण शक्तिशाली जाति तेरी महिमा करेगी, निष्ठुर देशों के नगर तेरा सम्मान करेंगे। (यशायाह 25:3)

यशायाह उन दिनों को आते हुए देखता है जब सारे देश — सभी लोगों के समूह के प्रतिनिधि — इस्राएल के परमेश्वर यहोवा और उसके मसीहा का विरोध नहीं करेंगे, जिसे हम जानते हैं कि वह यीशु है।

अब वे, बेल या नबो या मोलेक या अल्लाह या बुद्ध या आदर्शवादी सामाजिक कार्यक्रम या पूंजीवादी विकास सम्भावनाओं या पूर्वजों या दुष्टात्माओं की आराधना नहीं करेंगे। इसके स्थान पर वे विश्वास के द्वारा परमेश्वर के पर्वत पर भोज के लिए आएँगे।

और उनके दु:ख का परदा हटा दिया जाएगा और मृत्यु निगल ली जाएगी और परमेश्वर के लोगों की निन्दा हटा ली जाएगी और आँसू सदा के लिए चले जाएँगे।

यशायाह 25:3 के दर्शन को समझने के लिए यही सन्दर्भ है: “इस कारण शक्तिशाली जाति तेरी महिमा करेगी, निष्ठुर देशों के नगर तेरा सम्मान करेंगे।” दूसरे शब्दों में, परमेश्वर “शक्तिशाली लोगों” से अधिक शक्तिशाली है और वह इतना सामर्थी और इतना अनुग्रहकारी है कि अन्त में वह निष्ठुर देशों को उसका सम्मान करने के लिए फेर देगा।

तो जो चित्र यशायाह हमें दे रहा है वह एक ऐसा चित्र है जिसमें सब देश आराधना के लिए परमेश्वर की ओर फिर गए हैं, सभी जातियों के लिए एक बड़ा भोज है, सब देशों के लोगों से जो कि अब परमेश्वर की प्रजा बन गए हैं, सारा दु:ख और शोक और निन्दा हटा दी जाएगी, और मृत्यु को सर्वदा के लिए हटा दिया जाएगा।

यह विजय निश्चित है क्योंकि परमेश्वर  इसे कर रहा है। इसलिए हम इसके लिए निश्चित हो सकते हैं।

संसार में सुसमाचार प्रचार के लिए व्यय किया गया एक भी जीवन व्यर्थ नहीं जाता है। एक प्रार्थना या एक रूपया या एक उपदेश या प्रोत्साहन का एक पत्र या अन्धेरे में चमकने वाला एक छोटा दीपक — इस बढ़ते हुए राज्य के अभियान के लिए कुछ भी व्यर्थ नहीं है।

विजय तो निश्चित है।

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*