किस प्रकार की प्रार्थना परमेश्वर को प्रसन्न करती है?

“मैं ऐसे व्यक्ति पर दृष्टि करूँगा, जो दीन और टूटे मन का हो और जो मेरे वचन के कारण थरथराता हो।” (यशायाह 66:2)

सीधे हृदय वाले व्यक्ति का प्रथम चिन्ह यह है कि वह यहोवा के वचन से थरथराता है।

यशायाह 66 इस समस्या के विषय में बात करता है कि कुछ लोगों की आराधना की रीति परमेश्वर को प्रसन्न करती है और कुछ लोगों की आराधना की रीति परमेश्वर को प्रसन्न नहीं करती है। पद 3 उस दुष्ट व्यक्ति का वर्णन करता है जो अपना बलिदान लेकर आता है, “जो बैल की बलि करता है वह मानो मनुष्य की हत्या करता है।” उनके बलिदान परमेश्वर के लिए घृणित हैं — हत्या के समान है। परन्तु क्यों?

4 पद में परमेश्वर समझाता है “क्योंकि मैंने बुलाया, परन्तु किसी ने उत्तर न दिया, मैं बोला परन्तु उन्होंने नहीं सुना।”  उनके बलिदान परमेश्वर के लिए घृणित थे क्योंकि वे लोग परमेश्वर की वाणी को नहीं सुन रहे थे। परन्तु उनके विषय में क्या कहें जिनकी प्रार्थनाएँ परमेश्वर ने सुनी थी? परमेश्वर 2 पद में कहता है “मैं ऐसे व्यक्ति पर दृष्टि करूँगा, जो दीन और टूटे मन का हो और जो मेरे वचन के कारण थरथराता हो।”

इस बात से मैं यह निष्कर्ष निकालता हूँ कि सीधे हृदय वाले व्यक्ति, जिसकी प्रार्थनाएँ परमेश्वर को आनन्दित करती हैं, का प्रथम चिन्ह यह है कि वह यहोवा के वचन के कारण थरथराता है। ऐसे ही वे लोग हैं जिन पर परमेश्वर अपनी दृष्टि करेगा।

इसलिए सीधे व्यक्ति की प्रार्थना जो परमेश्वर को आनन्दित करती है उस हृदय से आती है जो पहले तो परमेश्वर की उपस्थिति में असहज होने का अनुभव करता है। वह परमेश्वर के वचनों को सुनकर थरथराता है क्योंकि वह परमेश्वर के स्तर से कम पाए जाने का और उसके न्याय के द्वारा दण्डित किए जाने का और अपनी असफलताओं के लिए असहाय तथा शोक का अनुभव  करता है।

यही बात दाऊद ने भजन 51:17 में कही “टूटा मन परमेश्वर के योग्य बलिदान है; हे परमेश्वर, तू टूटे और पिसे हुए हृदय को तुच्छ नहीं जानता।” पहली बात जो किसी प्रार्थना को स्वीकारयोग्य बनाती है वह है प्रार्थना करने वाले व्यक्ति का टूटापन एवं दीनता। वे उसके वचन के कारण थरथराते हैं।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 358
Album Cover
: / :