जब कोई अन्य ख्रीष्टीय आपको चोट पहुँचाता है
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

उसने स्वयं अपनी ही देह में क्रूस पर हमारे पापों को उठा लिया, जिस से हम पाप के लिए मरें और धार्मिकता के लिए जीवन व्यतीत करें, क्योंकि उसके घावों से तुम स्वस्थ हुए हो। (1 पतरस 2:24)

पश्चात्ताप करने वाले ख्रीष्टीय भाइयों और बहनों के विरुद्ध प्रतिशोध की भावना न रखने का आधार क्या है?

हमारे विरुद्ध किए गए किसी भयानक अपराध के प्रति हमारा नैतिक आक्रोश केवल इसलिए ही नहीं समाप्त हो जाता है क्योंकि दोषी व्यक्ति एक ख्रीष्टीय है। वास्तविकता में, हम और अधिक विश्वासघात का अनुभव कर सकते हैं। और सरलता से कहा गया, “मुझे क्षमा कीजिए” प्रायः अपराध की पीड़ा और कुरूपता की तुलना में पूरी रीति से अनुपयुक्त प्रतीत होगा।

परन्तु इस प्रकरण में हम संगी ख्रीष्टीयों के साथ व्यवहार कर रहे हैं और हमारे अपराधी के विरुद्ध परमेश्वर के प्रकोप की प्रतिज्ञा यहाँ लागू नहीं होती है, क्योंकि “जो ख्रीष्ट यीशु में हैं उन पर दण्ड की आज्ञा नहीं” है (रोमियों 8:1)। “क्योंकि परमेश्वर [ख्रीष्टियों] को प्रकोप के लिए नहीं, परन्तु हमारे प्रभु यीशु के द्वारा उद्धार प्राप्त करने के लिए ठहराया है” (1 थिस्सलुनीकियों 5:9)। ऐसा प्रतीत होता है कि वे बिना किसी परिणाम के बच निकलने वाले हैं!

हम अपने आप को इस बात का भरोसा दिलाने के लिए कहाँ जाएँ कि न्याय किया जाएगा — कि ख्रीष्टियता पाप की गम्भीरता का उपहास नहीं करती है?

इसका उत्तर यह है कि हम ख्रीष्ट के क्रूस की ओर देखते हैं। वे सभी बुराईयाँ जिन्हें वास्तविक ख्रीष्टीयों ने हमारे प्रति किया है, यीशु की मृत्यु के द्वारा दण्डित की गईं थीं। यह इस सरल परन्तु चौंका देने वाले तथ्य में निहित है कि परमेश्वर के सभी लोगों के सभी  पाप यीशु पर लाद दिए गए थे। “यहोवा ने हम सब के अधर्म का बोझ उसी पर लाद दिया” (यशायाह 53:6; 1 पतरस 2:24)।

आपको संगी ख्रीष्टीय से मिली प्रत्येक चोट के लिए यीशु की पीड़ा परमेश्वर की ओर से वास्तविक दण्ड और क्षतिपूर्ति थी। इसलिए, ख्रीष्टियता पाप को कम नहीं आँकती है। वह हमारी चोट में अपमान नहीं जोड़ती है।

इसके विपरीत, यह हमारे विरुद्ध किए गए पापों को इतनी गम्भीरता से लेती है कि उन्हें ठीक करने के लिए परमेश्वर ने अपने पुत्र को इतना अधिक कष्ट सहने के लिए दे दिया जितना कि हम किसी अन्य को, हमें हानि पहुँचाने के कारण कभी भी पीड़ित नहीं कर सकते हैं। यदि हम एक संगी विश्‍वासी के विरुद्ध प्रतिशोध की भावना बनाए रहते हैं, तो हम वास्तव में यह कह रहे होते हैं कि ख्रीष्ट का क्रूस परमेश्वर के लोगों के पापों के लिए पर्याप्त क्षतिपूर्ति नहीं था। यह ख्रीष्ट और उसके क्रूस का ऐसा अपमान है जिसे आप नहीं करना चाहेंगे।

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*