आनन्द के सात स्रोत

जब हमें सब प्रकार का कष्ट होता है, तो मैं आनन्द से भर जाता हूँ। (2 कुरिन्थियों 7:4)

पौलुस के बारे में असाधारण बात यह है कि जब कुछ भी ठीक नहीं हो रहा था तब भी उस समय उसका आनन्द कितना अधिक स्थाई था। 

इस प्रकार का आनन्द कहाँ से आता है?

सबसे पहले तो यह यीशु द्वारा सिखाया गया था: “धन्य हो तुम जब . . .  लोग तुमसे घृणा करें।  उस दिन तुम आनन्दित होकर उछलना-कूदना, क्योंकि स्वर्ग में तुम्हारे लिए बड़ा प्रतिफल है” (लूका 6:22-23)। यीशु के लिए कष्ट उठाने से स्वर्ग में आपका धन बढ़ता है — जो पृथ्वी की तुलना में लम्बे समय तक बना रहेगा। 

दूसरा, यह पवित्र आत्मा की ओर से आता है, न कि हमारे अपने स्वयं के प्रयासों, या कल्पनाओं या परिवार के पालन-पोषण से। “पवित्र आत्मा का फल . . . आनन्द है” (गलातियों 5:22)। “तुमने वचन को बड़े क्लेश में, पवित्र आत्मा के आनन्द  के साथ ग्रहण किया है” (1 थिस्सलुनीकियों 1:6)। 

तीसरा, यह परमेश्वर के राज्य में पाए जाने से आता है। “परमेश्वर का राज्य खाना पीना नहीं, परन्तु धार्मिकता, मेल और वह आनन्द है जो पवित्र आत्मा में है” (रोमियों 14:17)। 

चौथा, यह विश्वास के द्वारा आता है, अर्थात्, परमेश्वर पर विश्वास करने से। “अब आशा का परमेश्वर तुम्हें विश्वास करने में  सम्पूर्ण आनन्द और शान्ति से परिपूर्ण करे” (रोमियों 15:13)। “मैं जानता हूँ कि मैं जीवित रहूँगा वरन् तुम सब के साथ रहूँगा जिससे तुम विश्वास में  दृढ़ होते जाओ तथा उसमें आनन्दित रहो” (फिलिप्पियों 1:25)। 

पाँचवा, यह यीशु को प्रभु के रूप में देखने और जानने से आता है। “प्रभु में  सदा आनन्दित रहो” (फिलिप्पियों 4:4)।

छठवाँ, यह उन साथी विश्वासियों से आता है जो हमें कपटपूर्ण परिस्थितियों पर ध्यान देने के विपरीत आनन्द के इन स्रोतों पर ध्यान केन्द्रित कराने हेतु कठिन परिश्रम करते हैं। “हम तुम्हारे आनन्द के लिए तुम्हारे सहकर्मी हैं” (2 कुरिन्थियों 1:24)

सातवाँ, यह क्लेशों के शुद्ध करने वाले प्रभावों से आता है। “हम अपने क्लेशों में भी आनन्दित होते हैं, क्योंकि यह जानते हैं कि क्लेश में धैर्य उत्पन्न होता है, तथा धैर्य से खरा चरित्र, और खरे चरित्र से आशा उत्पन्न होती है” (रोमियों 5:3-4)।

यदि हम अभी भी पौलुस के समान नहीं हैं जब वह कहता है कि, “मैं आनन्द से भर जाता हूँ,” तो वह हमें ऐसा ही करने के लिए बुला रहा है। “जैसा मैं ख्रीष्ट (मसीह) का अनुकरण करता हूँ, वैसा ही तुम भी मेरा अनुकरण करो” (1 कुरिन्थियों 11:1)। और हम में से अधिकाँश लोगों के लिए यह एक सत्यनिष्ठ प्रार्थना की बुलाहट है। क्योंकि पवित्र आत्मा में आनन्द का जीवन एक अलौकिक  जीवन है।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 354
Album Cover
: / :