आनन्द के सात स्रोत

आनन्द के सात स्रोत

Seven Sources of Joy
जब हमें सब प्रकार का कष्ट होता है, तो मैं आनन्द से भर जाता हूं। (2 कुरिन्थियों 7:4)

पौलुस के बारे में असाधारण बात यह है कि जब कुछ भी ठीक नहीं हो रहा था तब भी उस समय उसका आनन्द कितना अधिक स्थाई था। 

इस प्रकार का आनन्द कहां से आता है?

सबसे पहले तो यह यीशु द्वारा सिखाया गया था: “धन्य हो तुम जब . . .  लोग तुमसे घृणा करें।  उस दिन तुम आनन्दित होकर उछलना-कूदना, क्योंकि स्वर्ग में तुम्हारे लिए बड़ा प्रतिफल है” (लूका 6:22-23)। यीशु के लिए कष्ट उठाने से स्वर्ग में आपका धन बढ़ता है — जो पृथ्वी की तुलना में लम्बे समय तक बना रहेगा। 

दूसरा, यह पवित्र आत्मा की ओर से आता है, न कि हमारे अपने स्वयं के प्रयासों, या कल्पनाओं या परिवार के पालन-पोषण से। “पवित्र आत्मा का फल . . . आनन्द है” (गलातियों 5:22)। “तुमने वचन को बड़े क्लेश में, पवित्र आत्मा के आनन्द  के साथ ग्रहण किया है” (1 थिस्सलुनिकियों 1:6)। 

तीसरा, यह परमेश्वर के राज्य में पाए जाने से आता है। “परमेश्वर का राज्य खाना पीना नहीं, परन्तु धार्मिकता, मेल और वह आनन्द है जो पवित्र आत्मा में है” (रोमियों 14:17)। 

चौथा, यह विश्वास के द्वारा आता है, अर्थात्, परमेश्वर पर विश्वास करने से। “अब आशा का परमेश्वर तुम्हें विश्वास करने में  सम्पूर्ण आनन्द और शान्ति से परिपूर्ण करे” (रोमियों 15:13)। “मैं जानता हूं कि मैं जीवित रहूंगा वरन् तुम सब के साथ रहूंगा जिससे तुम विश्वास में  दृढ़ होते जाओ तथा उसमेंआनन्दित रहो” (फिलिप्प्यों 1:25)। 

पाँचवा, यह यीशु को प्रभु के रूप में देखने और जानने से आता है। “प्रभु में  सदा आनन्दित रहो” (फिलिप्प्यों 4:4)।

छठवाँ, यह उन साथी विश्वासियों से आता है जो हमें कपटपूर्ण परिस्थितियों पर ध्यान देने के विपरीत आनन्द के इन स्रोतों पर ध्यान केंद्रित कराने हेतु कठिन परिश्रम करते हैं। “हम तुम्हारे आनन्द के लिए तुम्हारे सहकर्मी हैं” (2 कुरिन्थियों 1:24)

सातवाँ, यह क्लेशों के शुद्ध करने वाले प्रभावों से आता है। “हम अपने क्लेशों में भी आनन्दित होते हैं, क्योंकि यह जानते हैं कि क्लेश में धैर्य उत्पन्न होता है, तथा धैर्य से खरा चरित्र, और खरे चरित्र से आशा उत्पन्न होती है” (रोमियों 5:3-4)।
यदि हम अभी भी पौलुस के समान नहीं हैं जब वह कहता है कि, “मैं आनन्द से भर जाता हूं,” तो वह हमें ऐसा ही करने के लिए बुला रहा है। “जैसा मैं मसीह का अनुकरण करता हूं, वैसा ही तुम भी मेरा अनुकरण करो” (1 कुरिन्थियों 11:1)। और हम में से अधिकांश लोगों के लिए यह एक सत्यनिष्ठ प्रार्थना की बुलाहट है। क्योंकि पवित्र आत्मा में आनन्द का जीवन एक अलौकिक  जीवन है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email