आनन्द का लंगर
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

“धन्य हो तुम जब लोग मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, तुम्हें यातना दें और झूठ बोल बोलकर तुम्हारे विरुद्ध सब प्रकार की बातें कहें।” (मत्ती 5:11)

“फिर भी इस बात पर आनन्दित मत होओ कि आत्माएँ तुम्हारे वश में हैं, परन्तु इस बात से आनन्दित होओ कि तुम्हारे नाम स्वर्ग में लिखे हुए हैं।” (लूका 10:20)

यीशु ने एक रहस्य प्रकट किया है जो हमारी प्रसन्नता को दुख उठाने  के जोखिम और सफलता के जोखिम से बचाता है। वह रहस्य यह है: स्वर्ग में तुम्हारा प्रतिफल महान है । और उस प्रतिफल का सार यीशु ख्रीष्ट की महिमा की परिपूर्णता का आनन्द लेना है (यूहन्ना 17:24)।

यीशु हमारी प्रसन्नता को दुख उठाने  से बचाता है जब वह कहता है, 

“धन्य हो तुम, जब लोग मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, तुम्हें यातना दें और झूठ बोल-बोल कर तुम्हारे विरुद्ध सब प्रकार की बातें कहें — आनन्दित और मग्न हो, क्योंकि स्वर्ग में तुम्हारा प्रतिफल महान है ।” (मत्ती 5:11-12)

स्वर्ग में हमारा महान प्रतिफल हमारे आनन्द को सताव और निन्दा के जोखिम से बचाता है।

वह हमारे आनन्द को सफलता  से भी बचाता है जब वह कहता है,

“फिर भी इस बात पर आनन्दित मत होओ कि आत्माएँ तुम्हारे वश में हैं, परन्तु इस बात से आनन्दित होओ कि तुम्हारे नाम स्वर्ग में लिखे हुए हैं।” (लूका 10:20)

चेले इस बात से प्रलोभित हुए थे कि वे सेवा की सफलता में अपना आनन्द खोजने लगें। “यहाँ तक कि दुष्टआत्माएं भी तेरे नाम से हमारे वश में हैं।” (लूका 10:17)। किन्तु इससे उनका आनन्द एकमात्र निश्चित लंगर से अलग हो जाता।

इसलिए यीशु उनके आनन्द की रक्षा सफलता के जोखिम से करता है उनसे स्वर्ग के अति महान प्रतिफल की प्रतिज्ञा करने के द्वारा। इसमें आनन्द मनाओ: कि आपके नाम स्वर्ग में लिखे हुए हैं। आपका उत्तराधिकार असीम, अनन्तकालीन, और निश्चित है।

हमारा आनन्द सुरक्षित है। न तो दुख उठाना और न ही सफलता  इसके लंगर को नष्ट कर सकती है। स्वर्ग में आपका प्रतिफल महान है। आपका नाम वहाँ लिखा हुआ है। और यह सुरक्षित है।

यीशु ने दुख उठाने वाले सन्तों की प्रसन्नता के लंगर को स्वर्ग के प्रतिफल पर डाला है। और उसी में उसने सफल सन्तों की प्रसन्नता का भी लंगर डाला है।

और इस प्रकार उसने हमें सांसारिक पीड़ा और सुख के अत्याचार से स्वतन्त्र किया— अर्थात् सांसारिक कष्ट और सांसारिक सफलता। 

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*