एकमात्र विवेक-शुद्धकर्ता
जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

तो ख्रीष्ट का लहू, जिसने अपने आप को सनातन आत्मा द्वारा परमेश्वर के सम्मुख निर्दोष चढ़ा दिया, तुम्हारे विवेक को मरे हुए कामों से और भी अधिक क्यों न शुद्ध करेगा कि तुम जीवित परमेश्वर की सेवा करो? (इब्रानियों 9:14)

हम अभी आधुनिक युग में हैं – अर्थात् इन्टरनेट, स्मार्टफोन, अन्तरिक्ष यात्रा, और हृदय प्रत्यारोपण के युग में — और हमारी समस्या मूल रूप अभी भी वही है जो सदा से थी: हमारा विवेक हमें दोषी ठहराता है और हमें परमेश्वर के प्रति ग्रहणयोग्य न होने का अनुभव कराता है। हम परमेश्वर से पृथक हो गए हैं। और हमारा विवेक इस बात की साक्षी देता है।

हम स्वयं को काट सकते हैं, या अपने बच्चों को पवित्र नदी में फेंक सकते हैं, या दान के लिए दस करोड़ रुपए दे सकते हैं, या निर्धनों को भोजन कराने के द्वारा उनकी सेवा कर सकते हैं, या सैकड़ों प्रकार की तपस्या या स्वयं को क्षति पहुँचा सकते हैं, परन्तु परिणाम वही होगा: दोष का कलंक बना रहता है और मृत्यु हमें भयभीत करती रहेगी।

हम जानते हैं कि हमारा विवेक दूषित है — किसी शव, गन्दे डायपर या सूअर के माँस के टुकड़े को छूने जैसी बाहरी वस्तुओं से दूषित नहीं है। यीशु ने कहा कि जो मनुष्य के भीतर से निकलता है वही उसे अशुद्ध करता है, न कि जो भीतर जाता है (मरकुस 7:15-23)। हम घमण्ड और आत्म-दया और कड़वाहट और वासना और द्वेष और ईर्ष्या और लोभ और उदासीनता और भय जैसे व्यवहारों से दूषित हो जाते हैं।

इस आधुनिक युग में हर दूसरे युग के समान मात्र एक ही उत्तर है, और वह है ख्रीष्ट का लहू। जब आपका विवेक जाग उठेगा और आपकी निंदा करेगा, तो आप कहाँ जाएँगे? इब्रानियों 9:14 आपको इसका उत्तर देता है: “तो ख्रीष्ट का लहू, जिसने अपने आप को सनातन आत्मा द्वारा परमेश्वर के सम्मुख निर्दोष चढ़ा दिया, तुम्हारे विवेक को मरे हुए कामों से और भी अधिक क्यों न शुद्ध करेगा कि तुम जीवित परमेश्वर की सेवा करो?”
इसका उत्तर है: ख्रीष्ट के लहू की ओर फिरिए। पूरे संसार में उस एकमात्र शुद्ध करने वाले अभिकर्ता (agent) की ओर मुड़िए जो आपको इस जीवन में चैन और मृत्यु में शान्ति दे सकता है।