सीधे परमेश्वर के पास जाएँ
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

“उस दिन तुम मेरे नाम से मांगोगे, और मैं तुमसे यह नहीं कहता कि तुम्हारे लिए पिता से विनती करूँगा, क्योंकि पिता स्वयं तुम से प्रेम करता है, इसलिए कि तुमने मुझ से प्रेम किया है और यह विश्वास किया है कि मैं पिता में से निकल कर आया हूँ।” (यूहन्ना 16:26-27)

परमेश्वर का पुत्र जितना मध्यस्थ है उससे अधिक उसे मध्यस्थकर्ता न बनाएँ। 

यीशु कहता है, “मैं तुमसे यह नहीं कहता कि मैं तुम्हारे लिए पिता से विनती करूँगा।” दूसरे शब्दों में, मैं तुम्हारे और पिता के बीच में स्वयं को नहीं लाना चाहता हूँ, जैसे कि तुम उसके पास स्वयं सीधे नहीं जा सकते हो। क्यों? क्योंकि, “पिता स्वयं तुमसे प्रेम करता है।” 

यह आश्चर्य की बात है। यीशु हमें चेतावनी दे रहा है कि हम सर्वसामर्थी परमेश्वर के विषय में यह विचार न करें कि वह हमें सीधी रीति से अपनी उपस्थिति में ग्रहण करने के लिए अनिच्छुक है। “सीधी रीति से” से मेरा तात्पर्य वही है जो यीशु का था जब उसने कहा, “मैं तुम्हारे लिए परमेश्वर के सम्मुख तुम्हारी विनतियों को लेकर नहीं जाऊँगा। तुम स्वयं उनको लेकर जा सकते हो। वह तुमसे प्रेम करता है। वह चाहता है कि तुम उसके पास आओ। वह तुमसे क्रोधित नहीं है।”

यह पूर्णतः सत्य है कि यीशु के लहू के बिना किसी भी पापी मनुष्य की पिता तक कोई पहुँच नहीं है (इब्रानियों 10:19-20)। अब वह हमारे लिए विनती करता है (रोमियों 8:34; इब्रानियों 7:25)। अब वह पिता के पास हमारा सहायक है (1 यूहन्ना 2:1)। अब वह परमेश्वर के सिंहासन के सम्मुख हमारा बड़ा महायाजक है (इब्रानियों 4:15-16)। उसने कहा, “बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुँच सकता” (यूहन्ना 14:6)। 

हाँ! यह बात सत्य है। परन्तु यीशु अपनी अत्यधिक मध्यस्थता से हमारी रक्षा करना चाहता है। “मैं तुमसे यह नहीं कहता कि तुम्हारे लिए पिता से विनती करूँगा, क्योंकि पिता स्वयं तुम से प्रेम करता है।” यीशु वहाँ उपस्थित है। वह हमारे ऊपर से पिता के क्रोध के हटाए जाने की सदा-उपस्थित, सदा-जीवित साक्षी को प्रदान कर रहा है।  

परन्तु वह हमारी ओर से बात करने के लिए, या हमें पिता से दूर रखने के लिए नहीं अथवा यह बताने के लिए नहीं है कि पिता का हृदय हमारे प्रति शिथिल है या विमुख है — तभी तो वह कहता है  “क्योंकि पिता स्वयं तुमसे प्रेम करता है।” 

इसलिए, आइए, साहस के साथ आइए (इब्रानियों 4:16)। आशापूर्वक आइए। मुस्कुराहट की आशा के साथ आइए। भय के साथ नहीं परन्तु आनन्द से काँपते हुए आइए। 

यीशु कहता है, “परमेश्वर के पास जाने के लिए मैंने एक मार्ग तैयार किया है। अब मैं तुम्हारे मार्ग में बाधा नहीं बनूँगा।” आप स्वयं उस मार्ग के द्वारा परमेश्वर के पास आइए।” 

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*