अपर्याप्त रूप से सुखवादी

व्यापार केन्द्रों की छतों से इस सन्देश को चिल्ला कर बोले जाने की आवश्यकता है: हे सांसारिक मनुष्य, तुम पर्याप्त रूप से सुखवादी नहीं हो!

आनन्द की उस छोटे से 2% उपज से जिसे मुद्रास्फीति के कीट-पतंगे और मृत्यु की जंग खा जाती है सन्तुष्ट होना छोड़ दो। स्वर्ग की विश्वसनीये, उच्च-उपज, ईश्वरीय रूप से बीमाकृत प्रतिभूतियों में निवेश करो।

भौतिक सुख-सुविधाओं और सुरक्षा और रोमांच के लिए जीवन समर्पित करना अपने धन को चूहे के बिल में डालने के समान है, अर्थात् उसे नष्ट करना है। परन्तु प्रेम के श्रम में जीवन का निवेश करने से ऐसे आनन्द का लाभाँश मिलता है जो अद्वितीय और अन्तहीन होता है:

“अपनी सम्पत्ति बेचकर दान कर दो। [और इस प्रकार से] अपने लिए ऐसे बटुए बनाओ जो फटते नहीं, अर्थात् समाप्त न होने वाल धन स्वर्ग में इकट्ठा करो, जहाँ न तो चोर उसके निकट आता है और न उसे कीड़ा बिगाड़ता है” (लूका 12:33)।

यह सन्देश ही शुभ समाचार है: ख्रीष्ट के पास आओ, जिसकी उपस्थिति में सदा के लिए हर्ष और आनन्द की परिपूर्णता है। ख्रीष्टीय सुखवाद के श्रम में हमारे साथ सम्मिलित हो जाइए। क्योंकि प्रभु ने कहा है: विलासिता में रहने से प्रेम करना अधिक धन्य है! यह अभी धन्य है और सदा के लिए भी होगा।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352