पाप, शैतान, अस्वस्थता, या अन्तर्ध्वंस

मैंने इसके विषय में प्रभु से तीन बार प्रार्थना की कि यह मुझ से दूर हो जाए। और उसने मुझ से कहा, “मेरा अनुग्रह तेरे लिए पर्याप्त है, क्योंकि मेरा सामर्थ्य निर्बलता में सिद्ध होता है।” अतः मैं सहर्ष अपनी निर्बलताओं पर घमण्ड करूँगा। जिससे कि ख्रीष्ट का सामर्थ्य मुझमें निवास करे। (2 कुरिन्थियों 12:8-9)

क्या सताव के कारण ख्रीष्टीय को जो कष्ट होता है और कैंसर के कारण होने वाला कष्ट दोनों एक ही बात हैं? क्या एक के लिए दी गई प्रतिज्ञाएँ दूसरे पर लागू होती हैं? मेरा उत्तर है: हाँ। यदि सम्पूर्ण जीवन, परमेश्वर की महिमा और अन्य लोगों के उद्धार की खोज के लिए सच्चे विश्वास में जिया जाता है, तो उसे किसी न किसी प्रकार की बाधा और कष्ट का सामना करना पड़ेगा। आज्ञाकारी ख्रीष्टीय के सामने आने वाला कष्ट उस मूल्य का भाग है जिसे आपको चुकाना पड़ता है क्योंकि आप जहाँ कहीं भी हैं वहाँ पर परमेश्वर की बुलाहट के प्रति आज्ञाकारी जीवन जीते हैं।

ख्रीष्ट के मार्गदर्शन में उसके पीछे चलने का चुनाव करने के द्वारा, हम इस पथ की उन सभी बातों को चुनते हैं जो ख्रीष्ट के सम्प्रभु ईश्वरीय-प्रावधान के अन्तर्गत आती हैं। इस प्रकार, वह सब कष्ट जो आज्ञाकारिता के पथ में आता है वह तो ख्रीष्ट के साथ और ख्रीष्ट के लिए ही कष्ट सहने के समान है — भले ही वह अपने देश में कैंसर हो या घर से दूर दूसरे देश में सताव ही क्यों न हो।

और इसे “चुना” जाता है — अर्थात्, हम स्वेच्छा से आज्ञाकारिता के उस पथ को लेते हैं जहाँ हम पर कष्ट आता है, और हम परमेश्वर के प्रति कुड़कुड़ाते नहीं हैं। हम प्रार्थना कर सकते हैं कि कष्ट हटा दिया जाए — जैसा कि पौलुस ने की थी (2 कुरिन्थियों 12:8); परन्तु यदि परमेश्वर ने चाहा, तो हम इसे स्वर्ग के मार्ग पर आज्ञाकारिता के पथ में शिष्यता के मूल्य के भाग के रूप में अपनाते हैं।

ख्रीष्टीय आज्ञाकारिता के पथ में आने वाले कष्ट के सभी अनुभव, चाहे वे सताव या अस्वस्थता या दुर्घटना के कारण हों, उनमें यह बात सामान्य है: कि वे सभी परमेश्वर की भलाई पर हमारे विश्वास को जोखिम में डालते हैं, और हमें प्रलोभित करते हैं कि हम आज्ञाकारिता के पथ को छोड़ दें।

इसलिए विश्वास की प्रत्येक सफलता और हमारा आज्ञाकारिता में पूर्णतः डटे रहना भी परमेश्वर की भलाई तथा ख्रीष्ट की बहुमूल्यता की साक्षी है — भले ही हमारा शत्रु — अस्वस्थता, शैतान, पाप, या अन्तर्ध्वंस हो। इसलिए सभी कष्ट, हर प्रकार का कष्ट, जिसे हम अपनी ख्रीष्टीय बुलाहट के पथ पर सहते हैं, वह तो “ख्रीष्ट के साथ” और “ख्रीष्ट के लिए” कष्ट सहना है।

इस अर्थ में उसके साथ  कि वह कष्ट हमारे पास आता है जब हम विश्वास के द्वारा ख्रीष्ट के साथ चल रहे हैं, तथा इस अर्थ में भी उसके साथ  कि यह उस सामर्थ्य के द्वारा सहा जाता है जिसे वह हमें हमारे लिए अपनी सहानभूतिपूर्ण महायाजकीय सेवा के द्वारा देता है (इब्रानियों 4:15)।
एवं उसके लिए  इस अर्थ में, कि कष्टों के द्वारा उसकी भलाई और सामर्थ्य के प्रति हमारी निष्ठा को परखा जाता है और प्रमाणित किया जाता है, तथा इस अर्थ में भी उसके लिए,  कि यह उसके मूल्य को एक सर्व-पर्याप्त प्रतिफल और पुरस्कार के रूप में प्रकट करता है।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 347
Album Cover
: / :