ख्रीष्ट यीशु में होने के छः अर्थ

“ख्रीष्ट यीशु में” होना एक आश्चर्यजनक वास्तविकता है। ख्रीष्ट के साथ मिलन होना, अर्थात् ख्रीष्ट के साथ बँध जाना असाधारण बात है।

यदि आप “ख्रीष्ट में” हैं, तो सुनें कि आपके लिए इसका क्या अर्थ है:

  1. ख्रीष्ट यीशु में  आपको जगत की उत्पत्ति से पूर्व अनुग्रह दिया गया था। 2 तीमुथियुस 1:9, “अनुग्रह के अनुसार जो ख्रीष्ट यीशु में  अनन्तकाल से हम पर हुआ।”
  1. ख्रीष्ट यीशु में  आपको सृष्टि से पूर्व चुन लिया गया था। इफिसियों 1:4, “[परमेश्वर] ने हमें जगत की उत्पत्ति से पूर्व ख्रीष्ट में चुन लिया।।”
  1. ख्रीष्ट यीशु में  आप से एक ऐसे प्रेम के साथ प्रेम किया जाता है जो अविभाज्य है। रोमियों 8:38-39, “मुझे पूर्ण निश्चय है कि न मृत्यु, न जीवन, न स्वर्गदूत, न प्रधानताएँ, न वर्तमान न भविष्य, न शक्तियाँ, न ऊँचाई न गहराई, और न कोई सृजी हुई वस्तु हमें परमेश्वर के प्रेम से जो हमारे प्रभु यीशु ख्रीष्ट में  है, अलग कर सकेगी।”
  1. ख्रीष्ट यीशु में  आप छुड़ाए गए और आपके सब पाप क्षमा किए गए हैं। इफिसियों 1:7, “हमें, [ख्रीष्ट] में, लहू के द्वारा छुटकारा, अर्थात् हमारे अपराधों की क्षमा मिली है।”
  1. ख्रीष्ट यीशु में  आप परमेश्वर के सामने धर्मी ठहराए गए हैं और ख्रीष्ट में परमेश्वर की धार्मिकता आप में अभ्यारोपित की गयी है। 2 कुरिन्थियों 5:21, “जो पाप से अनजान था, [ख्रीष्ट] को [परमेश्वर] ने हमारे लिए पाप ठहराया कि हम उसमें  परमेश्वर की धार्मिकता बन जाएँ।”
  1. ख्रीष्ट यीशु में  आप एक नई सृष्टि और परमेश्वर के पुत्र बन गए हैं। 2 कुरिन्थियों 5:17, “यदि कोई ख्रीष्ट में  है तो वह नई सृष्टि है। पुरानी बातें बीत गईं। देखो, नई बातें आ गई हैं।” गलातियों 3:26, “तुम उस विश्वास के द्वारा ख्रीष्ट यीशु में, परमेश्वर की सन्तान हो।”

मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप “ख्रीष्ट यीशु में” होने के अटूट सौभाग्य की खोज करने और हर्षित होने से कभी थक न जाएँ।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352