सृष्टि का सन्देश
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

बुद्धिमान होने का दावा करके वे मूर्ख बन गए, उन्होंने अविनाशी परमेश्वर की महिमा को नश्वर मनुष्य, पक्षियों, चौपायों और रेंगनेवाले जन्तुओं की मूर्ति की समानता में बदल डाला। (रोमियों 1:22-23)

यह एक बड़ी मूर्खता और एक बड़ी त्रासदी होगी यदि कोई पुरुष अपनी दुल्हन से अधिक अपने विवाह की अंगूठी से प्रेम करे। किन्तु यह खण्ड कहता है कि ऐसा ही हुआ है।

मनुष्य को सृष्टि में परमेश्वर की उत्कृष्टता की प्रतिध्वनि से प्रेम हो गया है, और उन्होंने प्रेम और शक्ति और महिमा के अतुलनीय, मूल पुकार को सुनने की क्षमता को खो दिया है।

सृष्टि का सन्देश यह है:

इस पूरे विस्मयकारी विश्व के पीछे महिमा, शक्ति और उदारता का एक महान परमेश्वर है; तुम उसके हो क्योंकि उसने तुम्हें बनाया है। वह आपके विद्रोही जीवन को बनाए रखने में आपके साथ धैर्य रखता है। फिरो और अपनी आशा उस पर रखते हुए भरोसा करो और अपने आप को उस में आनन्दित करो, मात्र उसकी हस्तकला पर ही नहीं।

भजन 19:1-2 के अनुसार, चौंधियाने वाले उज्ज्वल सूरज और नीले आकाश और बादलों और अनकही आकृतियों और रंगों और दिखाई देने वाली सभी वस्तुओं के सौन्दर्य के साथ, दिन उन सब के लिए उस सन्देश की “बातें करता है,” जो लोग दिन की बात को सुनेंगे। रात उसी सन्देश का “ज्ञान” उन सब को सिखाती है जो रात को महान अन्धकारमय शून्यताओं और गर्मियों के चँद्रमाओं और अनगिनत सितारों और अटपटी ध्वनियों और ठंडी हवाओं और ध्रुवीय ज्योति के साथ बोलते हुए सुनेंगे।

दिन और रात एक ही बात कह रहे हैं: परमेश्वर महिमामय है! परमेश्वर महिमामय है! परमेश्वर महिमामय है! अपनी सर्वोच्च सन्तुष्टि के लिए सृष्टि से फिर जाओ, और अपने आप को महिमा के प्रभु में आनन्दित करो।

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*