चिन्ता न करने के 7 कारण, भाग 2
जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

“तुम में से कौन है जो चिन्ता करके अपनी आयु एक घड़ी भी बढ़ा सकता है? वस्त्र के लिए तुम क्यों चिन्ता करते हो? वन के फूलों को देखो कि वे कैसे बढ़ते हैं! वे न तो परिश्रम करते हैं और न कातते हैं, फिर भी मैं तुमसे कहता हूँ कि सुलैमान भी, अपने सारे वैभव में उनमें से एक के समान भी वस्त्र पहिने हुए नहीं था। इसलिए परमेश्वर वन की घास को जो आज है और कल भट्ठी में झोंक दी जाएगी, इस प्रकार सजाता है, तो हे अल्प-विश्वासियो, वह तुम्हारे लिए क्यों न इस से अधिक करेगा?” (मत्ती 6:27-30)।

मत्ती 6:25-34 में कम से कम सात प्रतिज्ञाएँ है जो यीशु द्वारा इस उद्देश्य से बनाई गई हैं कि अच्छी कुश्ती लड़ने में हमें सहायता प्राप्त हो और हम चिन्ता से मुक्त हों। कल हमने प्रतिज्ञा 1 और 2 देखा था; आज हम 3 और 4 को देखेंगे।

प्रतिज्ञा #3: “तुम में से कौन है जो चिन्ता करके अपनी आयु एक घड़ी भी बढ़ा सकता है?” (मत्ती 6:27)

यह एक प्रकार की प्रतिज्ञा है — वास्तविकता की सरल प्रतिज्ञा जिसे आप अनुभव से जान सकते हैं: चिन्तित होने से आपको कुछ लाभ नहीं प्राप्त होगा। यह एक प्रतिज्ञा है। यह मुख्य तर्क तो नहीं है, परन्तु कभी-कभी हमें कड़ाई के साथ स्वयं से कहना होगा, “हे प्राण, इसके विषय में चिन्ता करना निरर्थक है। यह किसी भी बात की प्रतिज्ञा नहीं करता है। तुम केवल अपने ही दिन को नहीं बिगाड़ रहे हो, किन्तु दूसरे लोगों के दिन को भी बिगाड़ रहे हो। चिन्ता करना छोड़ दो। इसे परमेश्वर के हाथ में छोड़ दो। और अपने कार्य में लग जाओ।”

चिन्ता करने से कुछ भी लाभ नहीं मिलता है। यह एक प्रतिज्ञा है। इस पर विश्वास करें। इसके आधार पर कार्य करें।

प्रतिज्ञा #4: “वन के फूलों को देखो कि वे कैसे बढ़ते हैं! वे न तो परिश्रम करते हैं और न कातते हैं, फिर भी मैं तुमसे कहता हूँ कि सुलैमान भी, अपने सारे वैभव में उनमें से एक के समान भी वस्त्र पहिने हुए नहीं था। इसलिए परमेश्वर वन की घास को जो आज है और कल भट्ठी में झोंक दी जाएगी, इस प्रकार सजाता है, तो हे अल्प-विश्वासियो, वह तुम्हारे लिए क्यों न इस से अधिक करेगा?” (मत्ती 6:28-30)

वन के फूलों की तुलना में आप परमेश्वर के लिए अधिक मूल्यवान हैं, क्योंकि आप सर्वदा के लिए जीएँगे, और इसलिए उसकी प्रिय सन्तानों के रूप में उसे अनन्त स्तुति दे सकते हैं।

फिर भी, परमेश्वर के पास इतनी अधिक रचनात्मक ऊर्जा और देखभाल है, कि वह उसे ऐसे फूलों को उदारता से दे देता है जो कुछ ही दिनों तक रहते हैं। इसलिए, वह अवश्य ही उसी ऊर्जा और रचनात्मक कौशल को लेकर उसे अपनी उन सन्तानों के लिए उपयोग करेगा जो सर्वदा के लिए जीएँगे। प्रश्न यह है: क्या हम इस प्रतिज्ञा पर विश्वास करते हैं, और चिन्ता को दूर हटाते हैं?