एवरेस्ट से उत्तम

यदि आप इस विशाल प्रतिज्ञा के भीतर रहते हैं, तो आपका जीवन एवरेस्ट पर्वत से भी अधिक ठोस और स्थिर है।

जब आप रोमियों 8:28 की दीवारों के भीतर हों तो कुछ भी आपको उड़ाकर नहीं गिरा सकता है। रोमियों 8:28 के बाहर, सब कुछ भ्रम और चिन्ता और भय और अनिश्चितता है। परमेश्वर के सर्व-व्यापक भविष्य-के-अनुग्रह की इस प्रतिज्ञा के बाहर, नशीली दवाएँ और अश्लील साहित्य और दर्जनों व्यर्थ की भटकाने वाली बातें हैं। वहाँ पर अनिश्चित निवेश रणनीतियाँ और क्षणभंगुर बीमा योजनाएँ और नगण्य सेवानिवृत्ति योजनाओं की झोपड़ियाँ हैं। वहाँ गत्ते के बने हुए गढ़ सुरक्षित ताले और अलार्म प्रणाली और प्रक्षेपास्त्ररोधी प्रणाली से सुसज्जित हैं। रोमियों 8:28 की परमेश्वर की प्रतिज्ञा की दीवारों के बाहर तो एक हज़ार विकल्प हैं।

एक बार जब आप प्रेम के द्वार के माध्यम से होकर रोमियों 8:28 की विशाल, अडिग संरचना में प्रवेश करते हैं, तो सब कुछ परिवर्तित हो जाता है। आपके जीवन में स्थिरता और गहनता और स्वतन्त्रता आती है। अब आपको पहले के जैसे सरलता से नहीं उड़ाया जा सकता है। यह भरोसा कि एक सम्प्रभु परमेश्वर, आपकी भलाई के लिए उस सभी पीड़ा और सभी सुख को जिसे आप अनुभव करेंगे संचालित करता है, आपके जीवन में एक अतुलनीय आश्रय और सुरक्षा और आशा और शक्ति है।

जब परमेश्वर के लोग वास्तव में रोमियों 8:28 के भविष्य-के-अनुग्रह के अनुसार जीते हैं तो— खसरा रोग से शवगृह तक — वे संसार के सबसे स्वतन्त्र और सबसे दृढ़ और सबसे उदार लोग होते हैं।

उनका प्रकाश चमकता है और लोग स्वर्ग में उनके पिता की महिमा करते हैं (मत्ती 5:16)।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352