प्रेम की सबसे बड़ी प्रसन्नता

कोई अपनी देह से घृणा नहीं करता, वरन् उसका पालन-पोषण करता है, जैसे कि ख्रीष्ट भी कलीसिया का पालन-पोषण करता है क्योंकि हम उसकी देह के अंग हैं। (इफिसियों 5:29-30)

उस अन्तिम वाक्याँश पर ध्यान देना न भूलें: “क्योंकि हम उसकी देह के अंग हैं। ” और यह न भूलें कि पौलुस ने दो पद पहले क्या कहा था, अर्थात्, ख्रीष्ट ने अपने आप को हमारे लिए दे दिया, “कि उसे अपने लिए एक महिमायुक्त कलीसिया बनाकर प्रस्तुत करे।” अतः दो भिन्न-भिन्न रीतियों से, पौलुस स्पष्ट करता है कि ख्रीष्ट ने अपने लोगों की पवित्रता और सुन्दरता तथा प्रसन्नता की खोज में अपने आनन्द की खोज की है।

ख्रीष्ट और उसकी दुल्हन के मध्य का मिलन अत्यन्त घनिष्ठ (“एक तन”) है कि उसके दुल्हन के साथ की गई कोई भी भलाई मानो ख्रीष्ट के प्रति की गई भलाई है। जिसका अर्थ है कि इस स्थल का स्पष्ट दृढ़कथन यह है कि प्रभु अपनी दुल्हन को पोषित करने, सँजोने, पवित्र करने और शुद्ध करने के लिए प्रेरित होता है क्योंकि इसमें उसे अपना आनन्द प्राप्त होता है।

कुछ परिभाषाओं के अनुसार, यह प्रेम नहीं हो सकता। वे कहते हैं कि प्रेम को आत्म-हित से स्वतन्त्र होना चाहिए — विशेष रूप से ख्रीष्ट जैसा प्रेम, विशेष रूप से कलवरी का प्रेम। मैंने प्रेम की ऐसी विचारधारा को पवित्रशास्त्र के इस खण्ड के साथ मेल कराते हुए कभी नहीं देखा है। 

फिर भी यह स्थल स्पष्ट रूप से ख्रीष्ट द्वारा अपनी दुल्हन के लिए किए गए कार्य को प्रेम कहता है: “हे पतियो, अपनी अपनी पत्नी से प्रेम करो जैसा ख्रीष्ट ने भी कलीसिया से प्रेम किया . . . ”(इफिसियों 5:25)। नैतिकता या दर्शन द्वारा परिभाषित करने के स्थान पर, क्यों न हम अपने लिए स्थल को ही प्रेम को परिभाषित करने दें? इस स्थल के अनुसार, प्रेम, अतिप्रिय के पवित्र आनन्द में ख्रीष्ट के आनन्द की खोज है।

आत्म-हित को प्रेम से बाहर करने का कोई उपाय नहीं है, क्योंकि आत्म-हित और स्वार्थ एक ही बात नहीं हैं। स्वार्थ दूसरों के मूल्य पर अपना निजी सुख चाहता है।

ख्रीष्ट जैसा प्रेम दूसरों की प्रसन्नता में  अपनी प्रसन्नता खोजता है —  न कि उनके मूल्य पर। यहाँ तक कि वह अपने प्रियतम के लिए दुःख और मृत्यु भी सह लेता है, कि उसका आनन्द प्रियतम के जीवन और पवित्रता में पूर्ण हो सके।

इस प्रकार ख्रीष्ट ने हम से प्रेम किया, और इसी रीति से वह हमें एक दूसरे से प्रेम करने के लिये बुलाता है।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 345
Album Cover
: / :