पीड़ा में आनन्दित होना

“धन्य हो तुम, जब लोग मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, तुम्हें यातना दें और झूठ बोल -बोल कर तुम्हारे विरुद्ध सब प्रकार की बातें कहें –आनन्दित और मग्न हो, क्योंकि स्वर्ग में तुम्हारा प्रतिफल महान है। उन्होंने तो उन नबियों को भी जो तुमसे पहिले हुए इसी प्रकार सताया था” (मत्ती 5:11-12)।

मसीही सुखवाद कहता है कि एक मसीही होने के नाते क्लेश के मध्य आनन्दित होने की विभिन्न रीतियाँ हैं। परमेश्वर के सर्व-पर्याप्त, सर्व-सन्तुष्टिदायक अनुग्रह की अभिव्यक्ति के रूप में उन सब का पीछा किया जाना चाहिए।

क्लेश में आनन्दित होने की एक रीति है दृढ़ता से अपने मनों को उस पुरस्कार की महानता पर लगाना जो पुनरुत्थान के समय हमें प्राप्त होगा। इस प्रकार के ध्यान केन्द्रित करने के परिणामस्वरूप आने वाली बातों की तुलना में हमारी वर्तमान की पीड़ा कम प्रतीत होती है: “क्योंकि मैं यह समझता हूँ कि वर्तमान समय के दुखों की तुलना करना आने वाली महिमा से जो हम पर प्रकट होने वाली है, उचित नहीं” (रोमियों 8:18; तुलना करें 2 कुरिन्थियों 4:16-18)। क्लेश को सहने योग्य बनाने में, अपने पुरस्कार के विषय में आनन्दित होना भी प्रेम को सम्भव बनाएगा।

“अपने शत्रुओं से प्रेम रखो, और भलाई करो, और उधार देकर पाने की आशा मत रखो, और तुम्हारे लिए प्रतिफल बड़ा होगा ” (लूका 6:35)। कंगालों के प्रति उदार बनो “तब तू आशीषित होगा, क्योंकि उनके पास कोई ऐसा साधन नहीं कि तुझे बदला दें, परन्तु धर्मियों के जी उठने पर तुझे प्रतिफल मिलेगा ” (लूका 14:14)। इस प्रतिज्ञा किए गए प्रतिफल में भरोसा रखना संसारिकता के बंधन को काटता है और हमें प्रेम के मूल्य चुकाने के लिए स्वतन्त्र करता है।

हमारी आशा के आश्वासन पर क्लेश के प्रभाव के कारण भी हम एक अन्य रीति से क्लेश में आनन्दित होते हैं। कष्ट के मध्य आनन्द न केवल पुनरुत्थान और पुरस्कार की आशा पर आधारित है, परन्तु इस रीति में भी कि दुख उठाना स्वयं उस आशा को दृढ़ करने के लिए कार्यवन्त करता है।

उदाहरण के लिए, पौलुस कहता है, “हम अपने क्लेशों में भी आनन्दित होते हैं, क्योंकि यह जानते हैं कि क्लेश में धैर्य उत्पन्न होता है, तथा धैर्य से खरा चरित्र, और खरे चरित्र से आशा उत्पन्न होती है” (रोमियों 5:3-4)।

दूसरे शब्दों में, पौलुस का आनन्द केवल उसके महान प्रतिफल पर ही आधारित नहीं है, परन्तु दुख उठाने के परिणाम में भी है जो उस पुरस्कार की आशा को दृढ़ करता है। कष्ट धीरज को उत्पन्न करता है, और धीरज एक ऐसी समझ को उत्पन्न करता है कि हमारा विश्वास सच्चा और वास्तविक है, और यह हमारी उस आशा को दृढ़ करता है कि हम वास्तव में मसीह को प्राप्त करेंगे।

इसलिए चाहे हम पुरस्कार के धन पर ध्यान केन्द्रित करें या दुख उठाने के शुद्ध करने वाले प्रभावों पर, परमेश्वर का उद्देश्य यही है कि दुख उठाने के मध्य भी हमारा आनन्द बना रहे। 

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 365

Special Offer!

ESV Concise Study Bible

Get the ESV Concise Study Bible for a contribution of only 500 rupees!

Get your Bible