सर्वाधिक स्वतन्त्र करने वाली खोज

अत: हे मेरे भाइयो, प्रभु में आनन्दित रहो। (फिलिप्पियों 3ः1)

मुझे कभी किसी ने नहीं सिखाया कि जब मैं परमेश्वर में आनन्दित होता हूँ तो परमेश्वर महिमान्वित होता है — परमेश्वर में वह आनन्द ही वह भाव है जो हमारी स्तुति को परमेश्वर के लिए आदर की बात बनाता है, और न कि हमारा।

किन्तु जोनाथन एडवर्ड ने यह बात और भी स्पष्टता तथा सामर्थ्य के साथ कही थी: 

परमेश्वर सृजित प्राणियों में स्वयं को दो प्रकार से महिमान्वित करता है: (1) स्वयं को उनकी समझ में . . .  प्रकट करने के द्वारा; (2)  स्वयं को उनके हृदयों में संचार करने के द्वारा, और अपने स्वयं के व्यक्त प्रकटिकरणों में उनके आनन्द उठाने और प्रसन्नता पाने के द्वारा . . .। परमेश्वर, न केवल अपनी महिमा के दिखाए जाने के द्वारा महिमान्वित होता है, किन्तु तब भी होता है जब उसकी महिमा में उसके लोग आनन्दित होते हैं . . .।

जब उसकी महिमा को देखने वाले लोग उसमें हर्षित होते हैं: परमेश्वर उस स्थिति से अधिक महिमान्वित होता जिसमें वे मात्र उसकी महिमा को देखते ही हैं . . .। वह जो परमेश्वर की महिमा के विषय में अपने विचार की साक्षी देता है, वह उस व्यक्ति की तुलना में परमेश्वर की महिमा नहीं करता है जो उसकी महिमा के विषय में अपना अनुमोदन और उसमें हर्षित होने की साक्षी देता है।

यह मेरे लिए अत्यधिक चकित करने वाली नई खोज थी। मुझे अवश्य ही  परमेश्वर में आनन्द को खोजना चाहिए विशेषकर यदि मैं इसीलिए अस्तित्व में हूँ कि उस परमेश्वर की महिमा करूँ जो कि संसार की सबसे सर्वोच्च मूल्यवान वास्तविकता है। आराधना के साथ ही साथ आनन्दित होना मात्र एक विकल्प नहीं है। यह आराधना का एक अनिवार्य भाग है। वास्तव में यह आराधना का सार ही है — परमेश्वर की महिमा में आनन्दित होना।

ऐसे लोगों के लिए हमारे पास एक नाम है जो परमेश्वर के स्तुति के विषय में बात तो करते हैं परन्तु उस स्तुति में उन्हें स्वयं ही आनन्द नहीं होता है। हम उन्हें पाखण्डी कहते हैं। यीशु ने कहा, “हे पाखण्डियों! यशायाह ने तुम्हारे विषय में ठीक ही कहा है, ‘ये लोग अपने होंठों से तो मेरा आदर करते हैं किन्तु उनके हृदय मुझसे दूर ही हैं’” (मत्ती 15:7-8)। यह तथ्य — कि सच्ची स्तुति का अर्थ है उत्कृष्ट आनन्द और यह भी कि मनुष्य का सर्वोच्च लक्ष्य परमेश्वर की महिमा के लिए इस आनन्द में से जी भर के पीना — मेरे लिए यह विचार सबसे अधिक स्वतन्त्रता प्रदान करने वाली एक नई खोज थी।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 345
Album Cover
: / :