एक उत्तम प्रतिज्ञा की सामर्थ्य

आनन्द का आवश्यक तत्व (element) स्वतन्त्रता होता है। हम में से कोई भी आनन्दित नहीं होगा यदि हम उससे स्वतन्त्र न हों जिससे हम घृणा करते हैं और उसके लिए स्वतन्त्र हों जिससे हम प्रेम करते हैं। 

और सच्ची स्वतन्त्रता हमें कहाँ प्राप्त होती है? भजन 119ः45 कहता है, “मैं स्वतन्त्रता से चलूँगा, क्योंकि मैं तेरे उपदेशों का खोजी हूँ।”

यह एक खुले क्षेत्र का चित्रण है। वचन हमें संकुचित मानसिकता से स्वतन्त्र करता है। “परमेश्वर ने सुलैमान को . . . अत्यधिक समझ दी और उसके हृदय को समुद्र तट जैसा विशाल किया।” वचन हमें धमकियों से भरे बन्धनों से स्वतन्त्र करता है। “उसने मुझे निकालकर चौड़े स्थान में पहुँचाया है” (भजन 18:19)

यीशु ने कहा, “तुम सत्य को जानोगे, और सत्य तुम्हें स्वतन्त्र  करेगा” (यूहन्ना 8:32)। स्वतन्त्रता को लेकर उसके मस्तिष्क में जो विचार है वह पाप से स्वतन्त्रता है (यूहन्ना 8:34)। या, यदि इसे सकारात्मक रीति से कहें तो यह पवित्रता के लिए स्वतन्त्रता है।

परमेश्वर के अनुग्रह की प्रतिज्ञाएँ हमें वह सामर्थ्य प्रदान करती हैं जो परमेश्वर द्वारा हमसे पवित्रता की माँग को भय या बन्धन के विपरीत, एक स्वतन्त्रता के अनुभव में परिवर्तित कर देती हैं। पतरस परमेश्वर की प्रतिज्ञाओं द्वारा स्वतन्त्रता की सामर्थ्य को इस प्रकार से वर्णित करता है: “जिनके [उसकी बहुमूल्य और उत्तम प्रतिज्ञाओं] द्वारा तुम उस भ्रष्ट आचरण से जो वासना के कारण संसार में है, छूटकर ईश्वरीय स्वभाव के सहभागी हो जाओ” (2 पतरस 1:4)।

दूसरे शब्दों में, जब हम परमेश्वर की प्रतिज्ञाओं पर भरोसा रखते हैं तो इन उत्तम प्रतिज्ञाओं की सामर्थ्य के द्वारा हम भ्रष्ट आचरण तथा वासना की जड़ों को काट देते हैं।

यह वचन कितना महत्वपूर्ण है जो इन झूठे आनन्दों की सामर्थ्य को तोड़ देता है! और हमें इस वचन के द्वारा अपने मार्ग को प्रकाशित तथा अपने हृदयों को भरने के लिए कितना अधिक प्रयत्नशील होना चाहिए!

“तेरा वचन मेरे पाँव के लिए दीपक, और मेरे मार्ग के लिए उजियाला है” (भजन 119:105)। “तेरे वचन को मैंने अपने हृदय में संचित किया है कि तेरे विरुद्ध पाप न करूँ” (भजन 119:11)।

साझा करें
जॉन पाइपर
जॉन पाइपर

जॉन पाइपर (@जॉन पाइपर) desiringGod.org के संस्थापक और शिक्षक हैं और बेथलेहम कॉलेज और सेमिनरी के चाँसलर हैं। 33 वर्षों तक, उन्होंने बेथलहम बैपटिस्ट चर्च, मिनियापोलिस, मिनेसोटा में एक पास्टर के रूप में सेवा की। वह 50 से अधिक पुस्तकों के लेखक हैं, जिसमें डिज़ायरिंग गॉड: मेडिटेशन ऑफ ए क्रिश्चियन हेडोनिस्ट और हाल ही में प्रोविडेन्स सम्मिलित हैं।

Articles: 352