हृदय का झरोखा
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

उस पर ध्यान करो जिसने पापियों का अपने विरोध में इतना विद्रोह सह लिया कि तुम थक कर निरुत्साहित न हो जाओ। (इब्रानियों 12:3)

मानव मन की सबसे अनूठी क्षमताओं में से एक यह है कि वह अपने द्वारा चुनी गई किसी भी वस्तु पर अपना ध्यान क्रेन्दित करने की क्षमता रखता है। हम एक मिनट रुककर अपने मन से कह सकते हैं, “इस विषय में विचार करो, न कि उस विषय में।” हम अपना ध्यान किसी विचार या चित्र या समस्या या आशा पर केन्द्रित कर सकते हैं। 

यह एक अद्भुत सामर्थ्य है। मुझे शंका है कि यह क्षमता जानवरों के पास होगी। वे सम्भवतः आत्म-विचारशील नहीं हैं, परन्तु आवेग और मूल प्रवृत्ति के द्वारा संचालित होते हैं।

क्या आप पाप के विरुद्ध अपने युद्ध में इस महान हथियार की उपेक्षा तो नहीं कर रहे हैं? बाइबल हमें बार-बार इस महत्वपूर्ण उपहार का उपयोग करने के लिए कहती है। आइए इस उपहार को अलमारी से बाहर निकालें, और इसके ऊपर जमी धूल को साफ करके, इसको उपयोग में लाएँ। 

उदाहरण के लिए, पौलुस रोमियों 8:5-6 में कहता है, “जो शरीर के अनुसार चलते हैं, वे शरीर की बातों पर मन लगाते हैं, परन्तु जो आत्मा के अनुसार चलते हैं, वे आत्मा की बातों पर मन लगाते हैं। क्योंकि शरीर पर मन लगाना तो मृत्यु है, परन्तु आत्मा पर मन लगाना जीवन और शान्ति है।” 

यह आश्चर्यजनक है। आप जिस पर अपना मन लगाते हैं वह निर्धारित करता है कि वह विषय जीवन का है या मृत्यु का। 

हममें से अनेक लोग परिवर्तन और सम्पूर्णता तथा शान्ति का पीछा करने में बहुत ही अधिक निष्क्रिय हो गए हैं। मैं ऐसा सोचता हूँ कि हमारे इस रोगनिवारक युग में हम एक बहुत ही निष्क्रिय मानसिकता के जाल में फँस गए हैं, जिसमें हम केवल या तो “अपनी समस्याओं के बारे में बात करने” या “अपनी समस्याओं से निपटने” या “अपनी समस्याओं की जड़ को अपने परिवार के उद्गम में खोजने” में पड़ गए हैं। 

परन्तु मैं नए नियम में परिवर्तन के लिए अत्याधिक आक्रामक और गैर-निष्क्रिय दृष्टिकोण को देखता हूँ। अर्थात, “अपना मन पृथ्वी पर की नहीं, परन्तु स्वर्गीय वस्तुओं पर लगाओ” (कुलिस्सियों 3:2)। 

हमारी भावनाएँ बड़ी सीमा तक इस बात से नियन्त्रित होती हैं कि हम किस पर ध्यान लगाते हैं – अर्थात् जिस पर हम अपने मन में बने रहते हैं। उदाहरण के लिए, हम जिस बात पर ध्यान लगाते हैं उसी के द्वारा चिन्ता की भावनाओं पर विजय पाने के लिए यीशु कहता है: “कौवों पर ध्यान दो. . . . सोसन के पौधों पर ध्यान लगाओ” (लूका 12:24,27)। 

मन हृदय का झरोखा है। यदि हम अपने मन को निरन्तर अन्धकार में रहने देते हैं, तो हृदय अन्धकार का अनुभव करेगा। परन्तु यदि हम अपने मन के झरोखे को प्रकाश के लिए खोल दें, तो हृदय को प्रकाश का अनुभव होगा। 

इन सबसे बढ़कर, हमारे मन का ध्यान केन्द्रित करने और विचार करने की यह महान क्षमता यीशु पर ध्यान लगाने के लिए है (इब्रानियों 12:3)। तो, आइए हम इस कार्य को करें: “उस पर ध्यान करो जिसने पापियों का अपने विरोध में इतना विद्रोह सह लिया कि तुम थक कर निरुत्साहित न हो जाओ।”

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*