यीशु को स्मरण करने की दो रीतियाँ
<a href="" >जॉन पाइपर द्वारा भक्तिमय अध्ययन</a>

संस्थापक और शिक्षक, desiringGod.org

मेरे सुसमाचार के अनुसार दाऊद के वंशज मृतकों में से जी उठे यीशु ख्रीष्ट को स्मरण रख। (2 तीमुथियुस 2:8)

पौलुस यीशु को स्मरण करने की दो विशिष्ट रीतियों का उल्लेख करता है: मृतकों में से जी उठे के रूप में उसे स्मरण करो। और उसे दाऊद की सन्तान के रूप में स्मरण करो। यीशु के विषय में ये दो बातें क्यों हैं?

क्योंकि यदि वह मृतकों में से जी उठा है तो वह जीवित है और मृत्यु पर विजयी है — हमारी मृत्यु पर भी! “यदि उसका आत्मा जिसने यीशु को मृतकों में से जीवित किया तुम में निवास करता है, तो वह जिसने ख्रीष्ट यीशु को मृतकों में से जीवित किया, तुम्हारी मरणहार देहों को भी अपने आत्मा के द्वारा जो तुम में वास करता है, जीवित करेगा” (रोमियों 8:11)।

जिसका अर्थ है कि दुख उठाना कितना भी गम्भीर क्यों न हो जाए, इस पृथ्वी पर वह अधिक से अधिक आपका घात ही कर सकता है। परन्तु यीशु ने उस शत्रु के डंक को निकाल दिया है। वह तो जीवित है। और आप भी जीवित रहेंगे। “उन से मत डरो जो शरीर को घात करते हैं पर आत्मा को घात नहीं कर सकते” (मत्ती 10:28)।

परन्तु इससे भी अधिक, यीशु का पुनरुत्थान मात्र एक संयोगिक पुनरुत्थान नहीं था। यह तो दाऊद के पुत्र का पुनरुत्थान था। “दाऊद के वंशज, मृतकों में से जी उठे यीशु ख्रीष्ट को स्मरण रख।” पौलुस ऐसा क्यों कहता है?

क्योंकि प्रत्येक यहूदी व्यक्ति जानता था कि इसका क्या अर्थ है। इसका अर्थ था कि यीशु ही मसीहा है (यूहन्ना 7:42)। और इसका अर्थ यह हुआ कि यह पुनरुत्थान एक अनन्तकाल के राजा का पुनरुत्थान था। यीशु की माता मरियम से कहे गए स्वर्गदूत के शब्दों पर ध्यान दें:

“देख, तू गर्भवती होगी, और एक पुत्र को जन्म देगी, और तू उसका नाम यीशु रखना। वह महान होगा, और परमप्रधान का पुत्र कहलाएगा। और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उसे देगा, और वह याकूब के घराने पर अनन्तकाल तक राज्य करेगा, और उसके राज्य का अन्त न होगा।” (लूका 1:31-33)

इसलिए, यीशु को स्मरण करें, जिसकी आप सेवा करते हैं, और जिसके लिए आप दुख उठाते हैं। वह न केवल मृतकों में से जीवित है, परन्तु वह एक ऐसे राजा के रूप में जीवित है जो सदा के लिए राज्य करेगा— उसके राज्य का कोई अन्त नहीं होगा। भले ही वे आपके साथ जो कुछ भी करें, आपको भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। आप पुन: जीएँगे। और आप उसके साथ राज्य करेंगे।

यदि आप इस प्रकार के और भी संसाधन पाना चाहते हैं तो अभी सब्सक्राइब करें

"*" indicates required fields

पूरा नाम*